नोट बदलने के चक्कर में कहीं पहुंच ना जाएं जेल

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-11 14:40:55
नोट बदलने के चक्कर में कहीं पहुंच ना जाएं जेल

नई दिल्ली। मोदी सरकार के 500 और 1000 के नोट के प्रचलन से बाहर करने के फैसले ने काला धन रखने वालों और नकली नोट चलाने वालों की नींद उड़ा दी है। हालांकि इन सब के बावजूद भी नकली नोट चलाने वाले अभी भी सक्रिय हैं और भीड़ का फायदा उठाकर बैंकों को भी निशाना बना रहे हैं।

इसे देखते हुए भारतीय स्‍टेट बैंक (SBI) ने कहा है कि अगर किसी के पास 8 से अधिक जाली नोट मिलते हैं तो बैंक उस व्‍यक्ति के खिलाफ पुलिस में FIR दर्ज कराएगा। ऐसे में पुलिस उस व्यक्ति से जाली नोट के सोर्स के बारे में पूछताछ करेगी।

जरूर पढ़े-  बांग्‍लादेशी टके की तरह दिखती है नई इंडियन करेंसी

SBI की अध्‍यक्ष अरुधंती भट्टाचार्य के अनुसार, अगर एटीएम से पैसा निकालने पर एक ट्रांजेक्‍शन में पांच या इससे अधिक जाली नोट निकल जाएं, तो यह सिर्फ बैंक की दिक्‍कत नहीं हैं।

नए नियमों के अनुसार अब आपके लिए पुलिस के पास एफआईआर दर्ज कराना जरूरी है। अगर आप ऐसा नहीं करते हैं तो बैंक आपको इसके बदले में मुआवजा नहीं देगा और आप दूसरे कानूनी मामलों में भी फंस सकते हैं।

आपको बता दें कि अगर एटीएम से पांच या इससे ज्यादा नकली नोट निकलते हैं तो पुलिस और बैंक को इसकी जानकारी देना आपकी जिम्मेदारी है।

अगर आप ऐसा नहीं करते और उन नोटों को मार्किट में चलाने की कोशिश में शामिल पाए जाते हैं तो आप पर भी उसी कानून के तहत कार्रवाई की जाएगी जिसके तहत नकली नोट चलाने वालों पर की जाती है।

आप यह जाली नोट किसी को देने की गलती भी न करें क्‍योंकि नए नियमों के अनुसार जाली नोट किसी और को देना अपराध है भले ही यह नोट आपको एटीएम से पैसे निकालने में मिलें हैं।

आपको बता दें कि पाकिस्‍तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई भारत में बड़े पैमाने पर 500 और 1000 रुपए के नोट सर्कुलेट कर रही थी। भारतीय रिजर्व बैंक भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था में जाली नोट का प्रवाह बढ़ने को लेकर चिंता जता चुका है।


बिजनेस पर शीर्ष समाचार