अब मोबाइल ऐप डाउनलोड करने पर भी देना होगा टैक्स

Edited by: Web_team Updated: 10 Mar 2017 | 02:26 PM
detail image

नई दिल्ली। स्मार्टफोन यूजर्स लिए एक बुरी खबर है। आने वाले समय में सरकार स्मार्टफोन ऐप डाउनलोड करने पर भी टैक्स वसूलने की तैयारी कर रही है। इसके लिए सरकार जल्द ही गूगल टैक्स लाने वाली है।

सरकारी सूत्रों की मानें तो सरकार उस हर ऑनलाइन मल्टीनेशनल कंपनी पर टैक्स लगाने की तैयारी में है, जो भारत से पैसे कमा रही है। इस टैक्स की दर 6 फीसदी की हो सकती है। कहने का अर्थ यह है कि जो ऐप गूगल जैसे अन्य स्टोर पर मुफ्त में उपलब्ध हैं, कंपनियां अब उसके लिए पैसे चार्ज कर सकती है, जिसका सीधा असर ग्राहकों पर पड़ेगा।

यह भी पढें-1 लाख का है नोकिया 3310, जानें क्या है खास

रिपोर्ट के मुताबिक सरकार इन टैक्सों का दायरा कई चरणों में बढ़ाने की तैयारी कर रही है। इससे उन सभी बिजनेस पर बड़ा प्रभाव पड़ेगा जो अपने प्रोडक्ट्स के प्रचार के लिए गूगल, फेसबुक और अमेजन जैसी ऑनलाइन विदेशी डिजिटल कंपनियों पर अपना प्रचार करता हैं। यह टैक्स उन सभी तरह की कमाई पर लगेगा जो ऑनलाइन विज्ञापन से करते हैं या फिर ऐप डाउनलोड करते हैं।

गौरतलब है भारत डिजिटल ट्रांजेक्शन पर टैक्स लगाने वाला पहला ऐसा देश बना था, जब उसने पिछले साल जून में मल्टीनेशनल वेब कंपनियों की विज्ञापन से होने वाली कमाई पर 6 फीसदी की इक्विलाइजेशन लेवी लगाई थी।

यह भी पढें-स्वाइप ने लांच किया एलीट सेंस स्मार्टफोन, 8000 रु. है कीमत

सूत्रों के मुताबिक सरकार अब इक्विलाइजेशन लेवी को 7-8 फीसदी कर सकती है। मौजूदा समय में यह लेवी सिर्फ ऑनलाइन विज्ञापनों पर लगता है, जिसका सीधा असर फेसबुक, गूगल, याहू और लिंक्डइन जैसी कंपनियों पर पड़ता है।