अब टॉयलेट एक प्रेम कथा पर भी सेंसर ने चलाई कैंची, जाने वजह!

Edited by: Shiwani_Singh Updated: 09 Aug 2017 | 01:53 PM
detail image

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत अभियान के समर्थन में बनी फिल्म टॉयलेट एक प्रेम कथा भी सेंसर की कैंची से बच नहीं पाई है। फिल्म को पास करने के साथ आठ बातों को हटाने या म्यूट करने को कहा है।

यह भी पढ़ेंः 'फुकरे रिटर्न्स' का टीजर रिलीज, धमाल करते दिख रहें हैं पुलकित, अली और रिचा चड्ढा

एक सीन में अक्षय कुमार अपनी ऑनस्क्रीन पत्नी यानी भूमि पेडनेकर से कहते हैं तुमने मुझे तीन बार जगाया है, मैं कोई सांड हूं क्या। एक अन्य सीन में एक कैरेक्टनर कहता है कि वह एक रस्सी को कान पर लगाकर लघुशंका करने जाता है। यानी जनेउ की ओर इशारा है।

सेंसर बोर्ड से जुड़े एक सू्त्र का कहना है कि फिल्म में अक्षय कुमार के किरदार द्वारा कहे गए संवाद न तो मनोरंजक हैं और न ही इनको सही सेंस में दर्शाया गया है। इन कट़स पर अभी फिल्म निर्माताओं की प्रतिक्रिया आनी बाकी है। बता दें कि यह टॉयलेट एक प्रेम कथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छता अभियान पर है, बावजूद इसके सेंसर बोर्ड ने इसके कुछ सीन पर आपत्त‍ि जताई है।

यह भी पढ़ेंः VIDEO: अक्षय कुमार का नया कारनामा, बनवा रहे हैं 24 घंटे में 24 टॉयलेट !

अक्षय कुमार कह चुके हैं कि वे अपनी इस फिल्म की स्क्रीनिंग प्रधानमंत्री मोदी के लिए रखेंगे। यह फिल्मस 11 अगस्त को रिलीज हो रही है। आइडिया चोरी का आरोप लगने के बाद फिल्म पहले ही विवादों में रह चुकी है। फिल्म के लेखकों ने इस पर सफाई देते हुए कहा था कि वे इस कहानी पर 2012 से काम कर रहे हैं। फिलहाल अक्षय और भूमि टॉयलेट एक प्रेमकथा के प्रमोशन में बिजी है।

आपको बता दें कि सेंसर बोर्ड द्वारा कई बार फिल्मों मे कुछ सीनस् पर कैंची चलाई गई हैं। अभी हाली मे सेंसर बोर्ड नवाजुद्दीन सिद्दीकी की फिल्म बाबूमोशाय में 48 कट्स लगाए थे।

वहीं इससे पहले एकता कपूर की हालिया रिलीज फिल्म 'लिपस्टिक अंडर माय बुर्का' पर सेंसर बोर्ड ने फिल्म के कुछ सीनस पर आपत्ति जताई थी। इस फिल्म के सपोर्ट में उन दिनों #LipstickRebellion हैशटैग ने जोर पकड़ा हुआ था। वहीं, कहीं ऐक्ट्रेसेस इसके सपोर्ट में अपनी-अपनी तस्वीरों के साथ सामने आ रही थीं।