फर्जी दस्तावेजों के आधार पर हुई सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-10-07 18:02:08
फर्जी दस्तावेजों के आधार पर हुई सहायक प्रोफेसर की नियुक्ति

बुंदेलखण्ड। बुंदेलखण्ड का डॉ हरि सिंह गौर केंद्रीय विश्व विद्यालय एक बार फिर सुर्खियों में है। इस बार सुर्खियों का कारण बनी है एक सहायक प्रोफेसर की फर्जी दस्तावेज। विश्व विद्यालय के सहायक प्रोफेसर पर फर्जी दस्तावेज के आधार पर नियुक्ति का आरोप लगा है। दरअसल विश्व विद्यालय के प्रोफेसर की नियुक्ति के संदर्भ में एक आरटी कार्यकर्ता ने जानकारी मांगी थी। जिसके बाद यह पूरा प्रकरण सामने आया है।

मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने प्रोफेसर के खिलाफ नोटिस जारी कर उनसे पूछताछ शुरू कर दी है। पुलिस का कहना है कि इस मामले में कई अधिकारियों से भी पूछताछ की जाएगी। वहीं आरटीआई कार्यकर्ता का कहना है कि वर्तमान कुलपति आरोपी का बचाने का प्रयास कर सकते है।


बुंदेलखंड पर शीर्ष समाचार