कश्मीर मसले पर ट्रंप ने दिया था मध्यस्थता का प्रस्ताव

Edited by: Editor Updated: 11 Nov 2016 | 03:11 PM
detail image

नई दिल्ली। अमेरिका के नवनिर्वाचित राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के उस बयान का पाकिस्तान ने स्वागत किया है, जिसमें उन्होंने कहा था कि अगर वो चुने जाते हैं तो वह भारत और पाकिस्तान के बीच कश्मीर मसले की मध्यस्थता करने को तैयार होंगे। पाकिस्तान ने कहा कि वह उनके इस प्रस्ताव का स्वागत करता है।

इस्लामाबाद में एक साप्ताहिक प्रेस ब्रीफिंग के दौरान, जब अमेरिका के नए राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की जीत के बारे में पूछा गया तो विदेश कार्यालय के प्रवक्ता नफीस जकारिया ने कहा कि राष्ट्रपति निर्वाचित होने से पहले हम उनके उस प्रस्ताव का स्वागत करते हैं, जिसमें उन्होंने कश्मीर विवाद पर भारत और पाकिस्तान के बीच मध्यस्थता की पेशकश की थी।

ये भी पढ़ें- अमेरिका में सबसे पहले प्रधानमंत्री मोदी को आमंत्रित करने की अपील

पाकिस्तान का ये बयान ऐसे समय में आया है जब विभिन्न रिपोर्टों का सुझाव है कि नए अमेरिकी राष्ट्रपति का झुकाव भारत की तरफ हो सकता है। ट्रंप ने एक बार पाकिस्तान को संभवतः दुनिया में सबसे खतरनाक देश कहा था।

जकारिया ने कहा कि पाकिस्तान अमेरिका के साथ एक करीबी रिश्ता चाहता है और भविष्य में इसे और मजबूत करना चाहता है।