16 नवंबर से शुरू हो रहा है शीतकालीन सत्र, करेंसी बंदी को लेकर हो सकता है हंगामा

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-15 09:42:34
16 नवंबर से शुरू हो रहा है शीतकालीन सत्र, करेंसी बंदी को लेकर हो सकता है हंगामा

नई दिल्ली। प्रधानमंत्री मोदी ने सोमवार को हुई गाजीपुर की रैली में करेंसी बंदी के फैसले को कड़क चाय की तरह बताया। मंच से मोदी ने विपक्ष और कालाधन रखने वालों पर प्रहार तो कर दिया, लेकिन अब उन्हें संसद में विपक्ष के सवालों का जवाब देना है।

मोदी ने एनडीए की बैठक में साफ कर दिया है कि पीछे हटने का कोई सवाल ही नहीं उठता और जनता सरकार के फैसले के साथ है। इसलिए तमाम परेशानियों के बाबजूद आम नागरिक सरकार के साथ खड़ा है।

ये भी पढ़ें: गुरू पर्व की छुट्टी के बाद आज खुलेंगे बैंक

करेंसी बंदी से आम जनता को हो रही परेशानी के मुद्दे पर विपक्ष सरकार को 16 नवंबर से शुरू हो रहे संसद के शीतकालीन सत्र में घेरने की कोशिश में जुट गई है। करेंसी बंदी के खिलाफ विपक्ष का संसद में मुकाबला करने के लिए पूरा एनडीए एक जुट हो गया है।

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सरकार को घेरने के लिए एक बैठक का आयोजन किया। तो वहीं, दूसरी तरफ कांग्रेस आलाकमान सोनिया गांधी ने अपने निवास 10 जनपथ पर बैठक बुलाई है, जिसमें सरकार को संसद में घेरने के लिए रणनीति बनाई जाएगी।

ये भी पढ़ें: यूपी चुनाव में आमने-सामने होंगी राखी और मायावती

इससे पहले सोमवार को भी सोनिया के घर पर एक बैठक हुई, जिसमें सपा, बसपा, डीएमके, एआईएडीएमके, आम आदमी पार्टी, बीजेडी जैसी पार्टियां मौजूद नहीं रहीं, लेकिन कांग्रेस का दावा है कि मंगलवार को होने वाली बैठक में इनमें से कई पार्टियां मौजूद रहेंगी।

सदन में हंगामा ना हो इसके लिए शीतकालीन सत्र से एक दिन पहले केंद्र सरकार द्वारा सर्वदलीय बैठक बुलाई है। कयास लगाए जा रहें है कि इस बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री राजनाथ सिंह और विभिन्न राजनीतिक पार्टियों के प्रतिनिधि शामिल होंगे। इस बैठक में 500-1000 के नोटों पर बैन, पीओके में सैन्य कार्रवाई, कश्मीर के हालात, जीएसटी जैसे मुद्दों पर चर्चा होगी।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार