लोगों का दर्द दूर करने के लिए उठाए जा रहे हैं जरूरी कदम: उर्जित पटेल

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-27 19:37:20
लोगों का दर्द दूर करने के लिए उठाए जा रहे हैं जरूरी कदम: उर्जित पटेल

मुंबई। नोटबंदी के फैसले पर अब तक चुप्पी साधे भारतीय रिजर्व बैंक के गवर्नर उर्जित पटेल ने पहली बार अपनी खामोशी तोड़ी है और कहा कि हालात पर उनकी नज़र है और देश में कैश की किल्लत नही हैं और लोगों के दर्द को दूर करने के लिए जरूरी कदम उठाए जा रहे हैं।

उन्होंने कहा जो ईमानदार हैं और जिन्हें तकलीफ हो रही है उसे दूर करने की कोशिश की जा रही है। अवाम में फैली कैश की किल्लत की आशंका को दूर करते हुए उर्जित पटेल ने यह भी कहा है कि देश में नकदी की कोई कमी नहीं है और जितने कैश की जरूरत है प्रिंटिंग प्रेस उस मांग को पूरी करने में सक्षम हैं।

उर्जित पटेल ने बताया नोट उपलब्ध हैं तथा बैंक उन्हें अपनी शाखाओं तथा एटीएम तक पहुंचाने के लिये मिशन के रूप में काम कर रहे हैं। नए 500 और 2,000 रुपए के नोटों के डिजाइन ऐसे हैं कि उनकी नकल करना मुश्किल होगा।

आरबीआई गवर्नर ने जनता से नकद की जगह डेबिट कार्ड जैसे विकल्पों का इस्तेमाल करने की अपील की और कहा कि इससे लेन-देन सस्ता तथा आसान होगा। सोशल मीडिया पर यह सवाल भी खड़े किए जा रहे थे कि आखिर उर्जित पटेल कहां हैं और खामोश क्यों हैं। अब नोटबंदी के 19वें दिन उर्जित पटेल के बयान से लोगों ने राहत महसूस की होगी।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार