Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

पेट्रोल पंप मालिकों ने सफेद किया काला धन, IT ने बिठाई जांच

Edited By: Hindi Khabar
Updated On : 2017-03-18 07:06:10
पेट्रोल पंप मालिकों ने सफेद किया काला धन, IT ने बिठाई जांच
पेट्रोल पंप मालिकों ने सफेद किया काला धन, IT ने बिठाई जांच

नई दिल्ली। नोटबंदी के बाद आयकर विभाग (आईटी) ने देशभर के पेट्रोल पंपों और गैस सिलेंडर वितरकों पर छापे मारने शुरू कर दिए हैं। आयकर विभाग को शक है कि चलन से बाहर हुए 500 और 1000 के नोटों को लोग गैरकानूनी ढंग से सफेद करने की कोशिश कर रहे हैं।

यह भी पढ़ें-कितना कालाधन आया, केंद्र दे जवाबः नीतीश

गौरतलब है मोदी सरकार ने कालेधन पर अंकुश लगाने व उसके रोकथाम के लिए 8 नवंबर को 500 और 1000 के पुराने नोटों का चलन बंद कर दिया गया था।

उल्लेखनीय है पेट्रोल पंप को 31 दिसंबर तक पुराने नोट चलाने की छूट दी गई थी और अब खबर है कि पेट्रोल पंप मालिकों ने इसी छूट का गलत फायदा उठाते हुए लोगों के कालेधन को सफेद किया है। इसी शक के आधार पर आयकर विभाग अधिनियम की धारा 133-ए के तहत पेट्रोल पंप मालिकों के कैशबुक की जांच कर रही है।

हालांकि कुछ आयकर अधिकारी इस कार्रवाई को छापा नहीं, बल्कि रूटीन सर्वे बता रहे हैं। आयकर अधिकारी के अनुसार इस सर्वे में यह बात सामने आई है कि नोटबंदी के दौरान पेट्रोल पंपों ने औसत बिक्री से 15% ज्यादा रकम बैंक खाते में जमा कराई है।

यह भी पढ़ें-सरकार को नहीं पता कि कितना कालाधन हैः वित्त मंत्रालय

रिपोर्ट के मुताबिक, 6 मार्च से ही पेट्रोल पंप और रसोई गैस वितरकों के दफ्तर में यह सर्वे किए जा रहे हैं और उनसे बिक्री व जमा राशि में अंतर का ब्यौरा मांगा गया है। वहीं, जो वितरक आयकर विभाग के नोटिस पर संतोषजनक जवाब नहीं दे पाए हैं उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है।


बिजनेस पर शीर्ष समाचार