Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

पीयूष गोयल ने बताया आखिर क्यों है देश को बुलेट ट्रेन की ज़रूरत?

Edited By: Hindi Khabar
Updated On : 2017-11-14 13:41:50
पीयूष गोयल ने बताया आखिर क्यों है देश को बुलेट ट्रेन की ज़रूरत? via
पीयूष गोयल ने बताया आखिर क्यों है देश को बुलेट ट्रेन की ज़रूरत?

नई दिल्‍ली। ऑनलाइन सवाल पूछने और जवाब एकत्रित करने वाली वेबसाइट 'क्योरा' पर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने पूछे गए एक सवाल के जवाब में केंद्र सरकार की बुलेट ट्रेन परियोजना का बचाव किया है। उन्होंने कहा, "ये देश के विकास की योजना का हिस्सा है।" बता दें कि वेबसाइट में ये सवाल पूछा गया था कि ''क्या देश को वाकई बुलेट ट्रेन की जरूरत है?'' बता दें कि गोयल सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहते हैं।

गोयल ने वेबसाइट पर कुछ ग्राफिक्स और पीएम की तस्वीरें साझा कीं और कहा, ''भारत तेजी से विकास करती अर्थव्यवस्था है और विकास से जुड़ी इसकी कई आवश्यकताएं हैं। भारत की विकास योजना का प्रमुख घटक ये है कि मौजूदा रेल नेटवर्क को अपग्रेड किया जाए। साथ ही में हाई स्‍पीड रेल गलियारे का विकास किया जाए जिसे बुलेट ट्रेन के तौर पर जाना जाता है।''

आगे कहा कि राजग सरकार की मुंबई-अहमदाबाद हाई स्‍पीड रेल परियोजना लोगों के लिए सुरक्षा, गति और सेवा के एक नए युग की शुरूआत करेगी और भारतीय रेलवे को पहुंच, गति और कौशल के मामले में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अगुआ बनने में मदद देगी। इसके अलावा किसी प्रौद्योगिकी को शुरू करने का अक्सर विरोध होता है लेकिन ये आखिरकार बदलाव लाती है।

रेल मंत्री ने बुलेट ट्रेन का विरोध कर रहे लोगों पर निशाना साधते हुए भी कहा कि जो लोग इसका विरोध कर रहे हैं उन्हें जवाब देना चाहिए कि क्या वो जनता को पीड़ित, असुरक्षित रखना चाहते हैं? बुलेट ट्रेन का विरोध करने वाले क्या अब भी 100 साल पुरानी टेक्नोलॉजी में यकीन रखते हैं। उन्होंने कहा कि ये कोई बहाना नहीं है लेकिन इंडियन रेलवे में समस्याएं 1-2 साल पुरानी नहीं है। ये समस्याएं सालों से जुड़ती चली आ रही हैं।

वहीं, इस मुद्दे पर कई विपक्षी दल समेत शिवसेना भी बुलेट ट्रेन परियोजना का विरोध कर रही है। शिवसेना ने विरोध करते हुए बुलेट ट्रेन को लूट और ठगी बताया और कहा कि जमीन-पैसा महाराष्ट्र और गुजरात का लगे और मुनाफा जापान कमाए।शिवसेना ने इस पर तर्क भी दिया कि भारत में बुलेट ट्रेन, जापान की मदद से तैयार होगी और इसके लिए जापानी कंपनी कील से लेकर ट्रैक और तकनीक सब कुछ अपने देश से लाने वाली है। यहां तक कि मजदूर भी जापान से आने वाले हैं, जो कि भारत के लिए अच्छी बात नहीं है।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार


x