पोखरण: अमेरिका से आई 145M777 होवित्ज़र तोप ट्रायल में ही हुई फेल

Edited by: PoojaDevi Updated: 13 Sep 2017 | 11:22 AM
detail image

जैसलमेर। अमेरिका से आई 145 एम 777 अल्ट्रालाइट होवित्ज़र तोप ट्रायल के दौरान ही फेल हो गई। गनीमत रही कि इस हादसे में किसी जवान को चोट नहीं आई। फिलहाल तोप का ट्रायल रोक दिया गया है और तोप का गन बैरल फटने के कारणों का पता लगाया जा रहा है।

बता दें कि भारत और अमेरिका के बीच 145 एम 777 तोपों के लिए करार हुआ था। इन तोपों में प्रत्येक तोप की कीमत 30 करोड़ रूपए है। इस करार के तहत दो तोपें मई में भारत लाई गई थी। इस तोप की गुणवत्ता परखने के लिए राजस्थान के पोखरण में इसका ट्रायल चल रहा था। इस दौरान तोप का गन बैरल फट गया। फिलहाल कुछ समय के लिए इसका ट्रायल रोक दिया गया है।

यह भी पढ़ें-सर्जिकल स्ट्राइक: मेजर ने किया बड़ा खुलासा

बता दें कि अमेरिका से आई अल्ट्रा होवित्ज़र तोप काफी हल्की है। साथ ही आकार में भी छोटी है। इस वजह से ये कहीं भी लाने ले जाने में काफी सुविधाजनक है। खास बात ये है कि इस तोप को एक्शन में आने के लिए केवल 3 मिनट का समय लगता है और ये 30 से 40 किलोमीटर दूर तक के दुश्मनों के ठिकाने को ध्वस्त कर सकती है।

इसके अलावा होवित्ज़र तोप में 155एमएम के सभी तरह के गोला बारूद इस्तेमाल किए जा सकते है। इसमें एचई, स्मोक, इल्युमिनेशन और फायर शामिल हैं। रिपोर्ट के मुताबिक वर्ष 2018 में सेना के प्रशिक्षण के लिए 3 और तोपें प्राप्त होंगी। इसके बाद 2019 के मार्च से हर महीने 5 तोपों की तैनाती शुरू हो जाएगी। इस तरह साल 2021 तक तोपों की आपूर्ति पूरी हो जाएगी।