Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

निजी स्कूल सिर्फ पढ़ाएं, किताब-कॉपी न बेचें: CBSE

Edited By: Hindi Khabar
Updated On : 2017-04-21 11:38:45
निजी स्कूल सिर्फ पढ़ाएं, किताब-कॉपी न बेचें: CBSE
निजी स्कूल सिर्फ पढ़ाएं, किताब-कॉपी न बेचें: CBSE

पानीपत। केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (सीबीएसई) ने निजी स्कूलों से कहा है कि वह सिर्फ पढ़ाने का काम करें। किताब, कॉपी, ड्रेस और बैग बेचने का व्यवसाय न करें। सीबीएसई ने कहा है कि बोर्ड ने छात्रों को गुणवत्तापरक शिक्षा देने के लिए स्कूलों को मान्यता दी है।

बोर्ड के अनुसार, ऐसी शिकायतें मिल रही हैं कि स्कूल नया सत्र शुरू होने पर किताब, कॉपी, ड्रेस और बैग बेचने का व्यवसाय स्कूल में चलाने लगते हैं। इस तरह की व्यवसायिक गतिविधि पर बोर्ड के एफिलिएशन नियम के तहत प्रतिबंध है। अगर कोई ऐसा करता पाया गया तो उस पर कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें- सीबीएसई का बड़ा फैसला,10वीं की बोर्ड परीक्षा होगी अनिवार्य

सीबीएसई एफिलिएशन ब्रांच के डिप्टी सेक्रेटरी के श्रीनिवासन की ओर से जारी निर्देश के अनुसार, स्कूल में कमर्शियल एक्टीविटी नहीं चलाई जा सकती है। उन्होंने कहा है कि बोर्ड पहले से ही स्कूलों को यह निर्देश देता रहा है कि एनसीईआरटी व सीबीएसई पब्लिकेशन से प्रकाशित होने वाली किताबें पढ़ाएंगे फिर भी स्कूलों में निजी प्रकाशकों की किताबें लगाई जा रही हैं। अभिभावकों की ओर से शिकायतें आ रही हैं कि एनसीईआरटी की किताबों के अलावा निजी प्रकाशकों के सैट स्कूल द्वारा दबाव डालकर खरीदवाए जा रहे हैं।

नियमों के खिलाफ काम करने पर और कॉमर्शियल एक्टिविटी करने पर सीबीएसई ने 13 स्कूलों को कारण बताओ नोटिस जारी किए हैं। यूपी के 6, दिल्ली के 2 और राजस्थान, मध्य प्रदेश, तमिलनाडु, मुंबई और कर्नाटक का एक-एक स्कूल शामिल हैं। सीबीएसई की ने स्कूलों को निर्देश दिए हैं कि वह बच्चों को एनसीआरटी या सीबीएसई की ही पुस्तकें पढ़ाएं।


अन्य राज्य पर शीर्ष समाचार


x