Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा: RBI ने तय की डेबिट कार्ड पर MDR की नई दरें

Edited By: Piyanka Tiwari
Updated On : 2017-12-07 12:04:40
डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा: RBI ने तय की डेबिट कार्ड पर MDR की नई दरें via
डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा: RBI ने तय की डेबिट कार्ड पर MDR की नई दरें

नई दिल्ली। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने डिजिटल लेन-देन को बढ़ावा देने के लिए डेबिट कार्ड पर मर्चेंट डिस्काउंट रेट (MDR) की नई दरें तय की हैं। इसके तहत डेबिट कार्ड से होने वाले लेनदेन के लिए अलग-अलग MDR तय की गई हैं।

अगर आने वाले दिनों में बैंक भी MDR चार्जेस घटाते हैं, तो इसका फायदा आम आदमी को मिलेगा। MDR चार्जेज कम होने के बाद जब भी आप POS (प्वाइंट ऑफ सेल्स मशीन) से डेबिट कार्ड के माध्यम से लेन-देन करेंगे, तो आपको कम चार्ज लगेगा।

RBI के नए नोटिफिकेशन के मुताबिक, 20 लाख रुपए तक के सालाना कारोबार वाले कारोबारियों के लिए MDR शुल्क 0.40 फीसदी तय की गया है। इसमें हर लेन-देन पर शुल्क की सीमा 200 रुपए रहेगी। अगर किसी कारोबारी का MDR 20 लाख से ज्यादा होता है तो उसका MDR शुल्क 0.90 फीसदी होगा। इसकी अधिकतम शुल्क राशि 1000 रुपए रहेगी। ये फैसला MDR को वाजिब स्तर पर लाने के लिए लिया गया है।

RBI के डिप्टी गवर्नर बी. पी. कानूनगो का कहना है कि 2016-17 POS पर डेबिट कार्ड का इस्तेमाल 21.9 प्रतिशत था। एक साल बाद भी ये आंकड़ा वहीं का वहीं है। यही वजह है कि RBI को MDR चार्ज को तर्कसंगत बनाने की जरूरत पड़ी है। इससे बैंकों को राजस्व मिलेगा तो वे इसके लिए इंफ्रास्ट्रक्चर विकसित करने के लिए निवेश करने को प्रोत्साहित होंगे।

 


बिजनेस पर शीर्ष समाचार


x