Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

विजयदशमी पर होगा संघ के नए गणवेश का शुभांरभ

Edited By: Editor
Updated On : 2016-10-10 17:21:00
 विजयदशमी पर होगा संघ के नए गणवेश का शुभांरभ
विजयदशमी पर होगा संघ के नए गणवेश का शुभांरभ

नई दिल्ली। हाल ही में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के गणवेश में हुए बदलाव में हाफ पैंट की जगह फुल पैंट कर दिया गया था लेकिन इसका शुभांरभ नही हुआ है। दशहरे के दिन 91 साल बाद खाकी पैंट के बजाए फुल पैंट में नजर आएंगे। इसके साथ ही खाकी फुल पैंट गणवेश का हिस्सा बन जाएगी। हालांकि आरएसएस कार्यकर्ताओं की संख्या के मद्देनजर सभी को खाकी फुल पैंट उपलब्ध नहीं कराई जा सकी है। इसलिए आरएसएस के स्थापन दिवस विजयादशमी पर निकाली जाने पथ संचालन को सिर्फ गुड़गांव महानगर में ही आयोजित किया जाएगा।

आरएसएस के विजयादशमी का जुलूस द्रोणाचार्य राजकीय महाविद्यालय पुराना गुड़गांव से 11 अक्तूबर की सुबह शुरू होगा। कालेज के पुराने रेलवे रोड की ओर जाने वाले गेट से पथ संचलन शुरू होगा। न्यू कालोनी, न्यू रेलवे रोड से होता हुआ द्रोणाचार्य राजकीय महाविद्यालय के मुख्य प्रवेश द्वार से द्रोणाचार्य कालेज में आएगा। यहां बौद्धिक कार्यक्रम संपंन किए जाने पश्चात विसर्जित हो जाएगा। विभाग प्रचारक शिव कुमार ने बताया कि इसी तरह 16 अक्तूबर अपराह्न 3 बजे सेक्टर 1 से महानगर मानेसर में पथ संचलन निकाला जाएगा।

आरएसएस के प्रांत सह संचालक पवन जिंदल का कहना है कि गणवेश में बदलाव का निर्णय आरएसएस की राष्ट्रीय स्तरीय बैठक में लिया गया था। विजयादशमी की सुबह स्वयंसेवक अपने शस्त्र की पूजा अर्चना करने के पश्चात पथ संचलन में हिस्सा लेंगे। इस पथ संचलन के साथ गणवेश में किया गया बदलाव लागू हो जाएगा। कुछ वर्ष पूर्व बेल्ट काली थी जिसे बदला गया था। चमडे़ के बजाए कैनवस बैल्ट को अपनाया गया। अब जुराबे भी ब्राउन होंगी और टोपी और जूते काले रंग के ही होंगे।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार


x