राजीव गांधी हत्याकांड की दोषी ने रिहाई के लिए लिखी चिट्ठी

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-10-24 12:19:11
राजीव गांधी हत्याकांड की दोषी ने रिहाई के लिए लिखी चिट्ठी

नई दिल्ली। जेल में 25 साल काटने के बाद पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी हत्याकांड की दोषी नलिनी श्रीहरन ने रिहाई के लिए राष्ट्रीय महिला आयोग का दरवाजा खटखटाया है। नलिनी ने एक बार फिर महिला आयोग को चिट्ठी लिखकर रिहाई की मांग की है।

नलिनी के वकील पी. पुगाझेंथी ने कहा, 'वह सबसे लंबे समय से जेल में कैद महिला है। इस संदर्भ में उसने महिला आयोग को पत्र लिखा है। अगर तमिलनाडु सरकार ने संविधान के प्रावधानों का पालन किया होता तो वह पहले ही रिहा हो गई होती।' पुगाझेंथी ने कहा कि वर्ष 2000 में महिला आयोग के हस्तक्षेप के बाद ही नलिनी की फांसी की सजा को उम्रकैद में बदला गया था।

22 अक्टूबर को हत्याकांड की दोषी नलिनी श्रीहरन ने राष्ट्रीय महिला आयोग को एक चिट्ठी लिखी, जिसमें उन्होंने 25 साल की सजा का हवाला देते हुए अपनी रिहाई की मांग की। चिट्ठई में नलिनी ने लिखा कि 'मैं सबसे लंबे समय से जेल में कैद महिला हूं। मेरा हर दिन रोते हुए बीतता है। मैं आम महिला की तरह जीने लायक नहीं बची हूं।

मैं तमिलनाडु में समयपूर्व रिहाई की तमाम योजनाओं के तहत रिहाई की पात्र हूं, लेकिन दुर्भाग्य से अब तक रिहा नहीं हुई। मेरी सारी उम्मीदें लगभग समाप्त हो गई हैं।' उसने कहा कि उसकी एकमात्र इच्छा ब्रिटेन में रह रही अपनी बेटी को देखना और उसकी शादी करवाना है।


चिट्ठी में नलिनी ने दूसरी महिलाओं की रिहाई का भी जिक्र किया है। नलिनी ने लिखा है, 'जब वह दूसरी महिलाओं को खास मौकों पर रिहा होते हुए देखती है तो उसका भी मन करता है कि वह खुली हवा में सांस ले सके। मेरा हर दिन आंसुओं के बीच बीतता है। मैं ऐसी जिंदगी से तंग आ चुकी हूं।'

आपको बता दें कि पिछले दो महीनों में नलिनी श्रीहरन ने दूसरी बार महिला आयोग को चिट्टी लिखी है। गौरतलब है, नलिनी देश की पहली ऐसी महिला है, जिसने सजा के तौर पर जेल में 25 साल पूरे किए हैं। फिलहाल नलिनी को महिला आयोग के जवाब का इंतजार है।

नलिनी को 14 जून, 1991 को गिरफ्तार किया गया था। 1998 में विशेष अदालत ने उसे और 25 अन्य को राजीव हत्याकांड का दोषी पाया था। नलिनी का पति मुरुगन भी इसी मामले में जेल में बंद है।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार