Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

राम जन्मभूमि विवाद: 5 दिसंबर को होगी अगली सुनवाई

Edited By: Ankur Maurya
Updated On : 2017-08-11 19:18:52
राम जन्मभूमि विवाद: 5 दिसंबर को होगी अगली सुनवाई via
राम जन्मभूमि विवाद: 5 दिसंबर को होगी अगली सुनवाई

नई दिल्ली। राम जन्मभूमि विवाद को लेकर सुप्रीम कोर्ट में शुक्रवार को हुई सुनवाई में कोर्ट ने मामले के दस्तावेज और मौखिक गवाहियों का 12 हफ्ते में अनुवाद करने को कहा है। इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले के खिलाफ विभिन्न अपीलों की संयुक्त सुनवाई के दौरान न्यायमूर्ति दीपक मिश्रा, न्यायमूर्ति अशोक भूषण और न्यायमूर्ति एस ए नकार की विशेष पीठ ने कहा कि वह 5 दिसंबर से इस मामले में अंतिम सुनवाई करेगी।

कोर्ट ने सभी पक्षकारों को सूचना के लिए 4 हफ्ते मे हिन्दी अंग्रेज़ी के अखबार मे नोटिस निकालने का आदेश दिया है। कोर्ट ने नियमित सुनवाई के लिए 5 दिसंबर की तारीख पर तय कर दी है। सुन्नी वक्फ बोर्ड और निर्मोही अखाड़ा ने सुनवाई के लिए 5 दिसंबर की तारीख का विरोध किया है। दोनों पक्षों ने कहा है कि अभी केस की सुनवाई के लिए तैयार नहीं है।

वहीं योगी सरकार ने भी सुनवाई की तारीख का विरोध करते हुए कहा कि पहले अपीलों को सुना जाना चाहिए। इसके जवाब में कोर्ट ने कहा कि पहले अपीलों पर सुनवाई होगी और फिर अंतरिम अर्ज़ियों पर विचार। अब मामले में सबसे पहले भगवान रामलला विराजमान की ओर से अपनी अपील पर बहस की जाएगी।

इलाहाबाद हाई कोर्ट की तीन न्यायाधीशों की पीठ ने 30 सितंबर 2010 को 2-1 के बहुमत से फैसला सुनाते हुए राम जन्मभूमि को तीन बराबर हिस्सों में रामलला विराजमान, निर्मोही अखाड़ा और सुन्नी सेंट्रल वक्फ बोर्ड मे बांटने का आदेश दिया था।

सुप्रीम कोर्ट ने 9 मई 2011 को अपीलें विचारार्थ स्वीकार करते हुए हाई कोर्ट के आदेश पर अंतरिम रोक लगा दी थी और सभी पक्षों को यथास्थिति कायम रखने के आदेश दिए थे जो फिलहाल लागू हैं। इसीलिए रामलला का तिरपाल भी सुप्रीम कोर्ट के आदेश से बदला जाता है।

शिया बोर्ड ने नयी याचिका दाखिल कर ढहाए गए विवादित ढांचे को शिया वक्फ बताया है। उसने बाबरी ढांचे को शिया वक्फ घोषित करने से इन्कार करने के फैजाबाद जिला अदालत के 1946 के फैसले को सुप्रीम कोर्ट मे चुनौती दी है। ये याचिका भी शुक्रवार को सुनवाई पर लगी है। याचिका में कहा गया है कि उसका वाद खारिज करने का जिला अदालत का आदेश गलत है।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार


x