आज शुरू होगी 'राम राज्य रथयात्रा', अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण है उद्देश्य

Edited by: Shanker_Mishra Updated: 13 Feb 2018 | 09:24 AM
detail image

अयोध्या। विश्व हिंदू परिषद के समर्थन से मंदिरों के नगर अयोध्या से मंगलवार को "राम राज्य रथयात्रा" का शुभारंभ किया जाएगा। राम राज्य रथयात्रा कारसेवकपुरम से चलेगी जो भरतकुंड, वाराणसी और प्रयाग आदि पड़ावों से होकर 41 दिनों के बाद राम नवमी के दिन तिरुवनंतपुरम में समाप्त होगी।

बता दें कि अयोध्या में राम मंदिर के लिए अभियान सन 1990 में लालकृष्ण आडवाणी ने शुरू किया था, जिससे भाजपा देश में एक प्रमुख राजनीतिक ताकत बन गई। विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) के अंतरराष्ट्रीय महासचिव चंप राय इसे हरी झंडी दिखाकर अयोध्या से रवाना करेंगे। उन्होंने बताया कि रथ यात्रा का यह 28वां साल है। इसके पहले यह यात्रा राम नवमी रथ यात्रा के नाम से निकाली जा रही थी जो अब रामराज्य की स्थापना को लेकर निकाली जा रही है ।

स्वामी ने बताया कि यात्रा के दौरान 10 लाख लोगों से राम मंदिर के पक्ष में हस्ताक्षर कराया जाएगा, जिसमें 5 हजार संत भी मौजूद रहेंगे। यह हस्ताक्षर का ज्ञापन पीएम और भारत के प्रेजिडेंट को सौंपा जाएगा। 24 मार्च को जब यात्रा रामेश्वरम पहुंचेगी, तो तिरुवनंतपुरम में राम राज्य महासम्मेलन का आयोजन होगा, जिसमें करीब एक लाख की भीड़ जमा होगी।

साथ ही उन्होंने बताया कि यात्रा को लेकर पांच मांगों को लेकर जागरण किया जा रहा है, जिसमें राम मंदिर का अयोध्या में निर्माण, रविवार की जगह गुरुवार को साप्ताहिक अवकाश, राम राज्य की स्थापना, पाठयक्रम में रामायण के अंशों को जोड़ना और विश्व हिन्दू दिवस की घोषणा शामिल है।

वहीं, यात्रा की आयोजक संस्था श्री राम दास मिशन यूनिवर्सल सोसाइटी के अध्यक्ष स्वामी कृष्णानंद सरस्वती ने कहा कि दूसरी रथयात्रा रामेश्वरम से शुरू होकर कश्मीर होते हुए 2019 की राम नवमी पर अयोध्या पहुंचेगी और हमें पूरा भरोसा है कि भव्य राम मंदिर में रामलला विराजमान मिलेंगे।