कासगंज हिंसा पर बोले रामगोपाल, 'चंदन को गोली मारने वाले थे हिंदू'

Edited by: Priyanka Updated: 06 Feb 2018 | 05:15 PM
detail image

नई दिल्ली। समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश के कासगंज में 26 जनवरी को तिरंगा यात्रा के नाम पर हुई हिंसा में मारे गए युवक चंदन गुप्ता को लेकर मंगलवार के दिन कहा कि चंदन की मौत हिन्दुओं के हाथों हुई लेकिन जुल्म मुसलमानों पर किया जा रहा है।

उन्होंने कहा, “जिला प्रशासन के आदेश बगैर ही भगवाधारी जुलूस निकाल रहे थे। मुस्लिम बाहुल इलाके में जाकर अगर ये नारे लगाएं कि मुसलमान का है दो स्थान कब्रिस्तान या पाकिस्तान तो कोई आदमी इसको सुन नहीं सकता। जहां पर तिरंगा झंडा लगा था वहां हिंदू वाहिनी का झंडा लगाना चाहते थे। इसी बात को लेकर दोनों के बीच तू-तू मैं-मैं हुई और गोली चली। चंदन को गोली मारने वाले हिंदू ही थे, लेकिन आरोप मुसलमानों पर लग गया। तमाम वायरल वीडियो में ये आपने भी देखा।”

रामगोपाल यादव ने कहा, “एनकाउंटर भी विशेष समुदाय के लोगों का ही किया जा रहा है। फर्जी एनकाउंटर किए जा रहे हैं। इतना ही नहीं सूबे के मुख्यमंत्री गंदी भाषा का प्रयोग कर रहे हैं। हम मुसलामानों के ऊपर अन्याय नहीं होने देंगे। कोई नाराज हो जाएगा इस वजह से विरोध नहीं करेंगे ऐसा नहीं है। चाहे अन्याय हिंदू करे या मुसलमान, हम अन्याय नहीं करेंगे”

ध्यान रहे इस हिंसा से जुड़े एक वीडियो में यात्रा के दौरान भगवा ब्रिगेड के कार्यकर्ताओं के हाथों में हथियार नजर आ रहे हैं। वीडियो में मारा गया युवक चंदन गुप्ता भी नजर आ रहा है।

वीडियो में हिंदू युवा हाथों में बंदूक लिए मुस्लिम बहुल इलाकों की तरफ जाते नजर आ रहे हैं। ये वीडियो उसी जगह का है, जहां चंदन गुप्ता को गोली गली थी। हालांकि इस वीडियो की सत्यता का प्रमाणित होना बाकि है।

रामगोपाल यादव ने कहा कि चुनाव से पहले बीजेपी समझ को कम्युनल लाइन पर बांटने की कोशिश करेगी। बता दें रामगोपाल मंगलवार को मैनपुरी के घिरोर में एक निजी कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे थे।

इससे पहले 2 फरवरी को रामगोपाल ने राज्य सभा में भी इस मुद्दे को उठाते हुए एक समुदाय विशेष को जान बुझकर फंसाने का आरोप लगाया था। हालांकि उन्होंने कोई नोटिस नहीं दिया था, इसलिए उन्हें बोलने नहीं दिया गया।