रोहिंग्य नेताओं ने लश्कर-ए-तैयबा से मिलाया हाथ, शरणार्थियों के लिए संगठन जुटा रहा चंदा

Edited by: Shivani Updated: 11 Dec 2017 | 10:57 AM
detail image

नई दिल्ली। म्यांमार से पलायन करने वाले रोहिंग्य मुस्लिमों ने आतंकी संगठन लश्कर-ए-तैयबा से हाथ मिला लिया है। अब ये संगठन रोहिंग्यों के लिए फंड इक्कट्ठा करने में लगे हैं। इस संबंध में रोहिंग्य मुस्लिमों के नेता ने पाकिस्तान जाकर लश्कर ए तैयबा के संगठन जमात उद दावा के लोगों से मिलकर बात की।

मिली जानकारी के अनुसार, जमात उद दावा से जुड़ा संगठन 'फला ए इंसानियत' कथित रूप से पाकिस्तान, भारत, बांग्लादेश के साथ-साथ बाकी जगह रह रहे रोहिंग्या मुसलमानों के लिए चंदा एकत्रित कर रहा है। खुफिया सुत्रों के अनुसार, दुबई में 'रोहिंग्या फेडरेशन ऑफ अराकन' का एक संगठन है उसकी अध्यक्ष फिरदोस शेख पिछले महीने पाकिस्तान गई थीं, जहां उन्होंने रोहिंग्यों के सपोर्ट में हुए एक सेमिनार में हिस्सा लिया था और जमात उद दावा के कुछ लोगों से मुलाकात भी की थी।

इस सब पर हमारी खुफियां एजेंसी नजर बनाएं हुए है, क्योंकि रोहिंग्या मुसलमानों से जुड़े संगठन पाक अधिकृत कश्मीर (पीओके) के साथ जम्मू-कश्मीर में भी अपने आपको मजबूत करना चाहते हैं। गृह मंत्रालय अगस्त में ही एडवाइजरी जारी करके कह चुका है कि रोहिंग्या मुसलमान अवैध रूप से भारत में घुस रहे हैं। ये भारत की सुरक्षा के लिए खतरा बताएं जा रहे हैं।