सेनारी नरसंहार में 10 को सजा ए मौत, 3 को उम्रकैद की सजा

Edited by: Editor Updated: 15 Nov 2016 | 04:58 PM
detail image

बिहार। बिहार का चर्चित सेनारी नरसंहार केस में जहानाबाद जिला कोर्ट ने 15 दोषियों में से 10 को मौत की सजा सुनाई है। इसके साथ ही 3 आरोपियो को को उम्रकैद की सजा सुना दी हैं।

हालाकिं इस मामले के दो दोषी अभी भी फरार हैं। आपको बता दें कि कोर्ट ने 20 दोषियों को पहले ही बरी कर दिया हैं। 70 आरोपियों में से 4 की मौत सुनवाई के दौरान हो चुकी है।

गौरतलब है कि 18 मार्च 1999 की रात प्रतिबंधित नक्सली संगठन उग्रवादियों ने सेनारी गांव को चारों ओर से घेर लिया था। इसके बाद एक जाति विशेष के 34 लोगों को उनके घरों से जबरन निकालकर सामुदायिक भवन के पास ले जाया गया, जहां उनकी गला रेतकर हत्या कर दी गई थी। 

इस मामले में एक पीड़ित चिंता देवी के बयान पर गांव के 14 लोगों सहित कुल 70 लोगों को नामजद अभियुक्त बनाया गया था। चिंता देवी के पति अवध किशोर शर्मा और बेटे मधुकर की भी इस कांड में मौत के घाट उतार दिया गया था।