Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

सिद्धू को कांग्रेस के लिए छोड़ना पड़ सकता है द कपिल शर्मा शो

Edited By: Hindi Khabar
Updated On : 2017-03-18 18:04:06
सिद्धू को कांग्रेस के लिए छोड़ना पड़ सकता है द कपिल शर्मा शो
सिद्धू को कांग्रेस के लिए छोड़ना पड़ सकता है द कपिल शर्मा शो

नई दिल्ली। बीजेपी का दामन छोड़ काग्रेस का हाथ थामने वाले नवजोत सिंह सिद्धू का मजाकिया अंदाज पार्टी को पसंद नहीं आ रहा है। सूत्र के मुताबिक पार्टी को लगता है कि इससे उनके मंत्री की छवि हल्की और नॉन सीरियस लगेगी। इसकी वजह से पार्टी के एक सीनियर नेता चाहते हैं कि सिद्धू कॉमेडी नाइट विद कपिल में जाना छोड़ दें।

यह भी पढ़ें- कपिल का शो नहीं छोड़ेगे सिद्धू, बोले, राजनीति और रोजगार अलग

हालांकि सिद्धू पहले ही साफ कर चुके हैं कि वह मंत्री पद मिलने के बाद भी शो को छोड़ने की नहीं सोच रहे हैं। सिद्धू ने मीडिया से बात करते हुए कहा था कि वह रात में मुंबई जाकर शूटिंग करेंगे और सुबह मंत्रालय का काम देखेंगे।

बावजूद इसके कांग्रेस पार्टी के एक सीनियर नेता पूरी कोशिश कर रहे हैं कि सिद्धू कॉमेडी अंदाजोबयां से तौबा कर ले। इसके लिए पार्टी ने एक सीनियर नेता को नवजोत सिंह सिद्धू के पीछे भी लगा दिया है। सूत्रों के मुताबिक, सीनियर नेता वही हैं जिन्होंने सिद्धू को कांग्रेस पार्टी में लाने में अहम भूमिका अदा की थी।

यह भी पढ़ें- पंजाब का डिप्टी सीएम बनते-बनते रह गए सिद्धू

इस मामले पर सिद्धू ने कहा, अगर मुझे समस्या नहीं है तो आप लोग क्यों चिंता कर रहे हो। अगर मुझे शो करना होगा तो मैं यहां (पंजाब) 3 बजे निकलूंगा और सुबह किसी के भी उठने से पहले वापस आ जाउंगा।

कांग्रेस को डर है कि विधायक के तौर पर सिद्धू को ऑफिस ऑफ प्रॉफिट (लाभ का पद) धारण करने वाला समझा जाएगा। कांग्रेस को यह भी डर सता रहा है कि पार्टी के ही अन्य नेता इस संबंध में चुनाव आयोग और पंजाब के गवर्नर को ना लिख दें।

यह भी पढ़ें- कपिल शर्मा ने रचाई शादी! शेयर की पत्नी के साथ फोटो

गौरतलब है सिद्धू ने पंजाब विधानसभा चुनाव 2017 से कुछ वक्त पहले ही कांग्रेस पार्टी ज्वॉइन की थी। पहले सिद्धू बीजेपी से सांसद थे। पंजाब में मिली जीत के बाद कांग्रेस नेता और अब पंजाब के मुख्यमंत्री बने अमरिंदर सिंह ने नवजोत सिंह सिद्धू को अपनी कैबिनेट में शामिल किया है।

सिद्धू को स्थानीय प्रशासन और पर्यटन विभाग का प्रभार सौंपा गया है। इसके अलावा उनको कला-संस्कृति, पुरातत्व एवं संग्रहालयों का भी काम-काज दिया गया है।


राजनीति पर शीर्ष समाचार


x