स्मृति ईरानी ने ममता पर बोला हमला, कहा-ट्रिपल तलाक पर कुछ बोलें दीदी

Edited by: Editor Updated: 20 Apr 2017 | 05:28 PM
detail image

कोलकाता। नारद स्टिंग ऑपरेशन में दर्जन भर तृणमूल कांग्रेस के नेताओं के खिलाफ सीबीआई ने FIR दर्ज की है जिसे ममता बनर्जी ने राजनीतिक खेल बताया है और कहा कि इसका जवाब वह राजनीतिक स्तर पर लड़ाई लड़के ही देंगी।

यह भी पढ़ें- लालू की मुश्किलें बढ़ी, मिट्टी घोटाले के बाद दिल्ली में करोड़ों का घर मिला!

गुरुवार को ओडिशा के पुरी में उन्होंने एक प्रेस वार्ता में इस लड़ाई की उद्घोषणा कर डाली। उनका आरोप है कि बीजेपी हिंदुवाद पर एक धब्बा है, क्षेत्रीय पार्टियों को एकजुट होना होगा और शुक्रवार को वह शायद ओडिशा के मुख्यमंत्री से भी मिलेंगी।

वहीं कोलकाता में कपड़ा मंत्री स्मृति ईरानी ने भी बनर्जी की तरफ एक गुगली मारते हुए कहा कि मैं उस राज्य में हूं जहां एक महिला मुख्यमंत्री हैं तो जब हम न्याय की बात कर रहे हैं तो मैं जानना चाहूंगी कि ममता दीदी का ट्रिपल तलाक पर क्या कहना है। हालांकि बनर्जी ने इस मुद्दे पर अपनी राय सामने नहीं रखी है। ईरानी का यह सवाल बीजेपी के ममता बनर्जी पर लगाए जाने वाले अल्पसंख्यक तुष्टिकरण की तरफ इशारा करता है।

इधर ममता बनर्जी के पुरी के जगन्नाथ मंदिर में दर्शन के दौरान बजरंग दल और बीजेपी के युवा कार्यकर्ताओं ने ममता वापस जाओ के नारे लगाए। प्रदर्शकारियों ने ममता के मंदिर में जाने पर इसलिए विरोध जताया क्योंकि वह कथित तौर पर बीफ के सेवन का समर्थन करती हैं। बुधवार को पांच लोगों को हिरासत में लिया गया है।

यह भी पढ़ें- नकली देशभक्त गरीबों के प्रति हैं संवेदनहीनः अखिलेश

ममता बनर्जी ने इन आरोपों का जवाब देते हुए कहा है कि 'ओए दिल्लीवालों, आपसे दिल्ली संभलती नहीं और आप देश भर में कहते फिरते हैं कि बंगाल, ओडिशा और बिहार बुरे हैं। हम सब बुरे हैं, बस आप ही अच्छे हैं?'

अपनी बात पूरी करते हुए ममता ने कहा 'सभी क्षेत्रीय पार्टियों को एकजुट होने की जरूरत है। अगर बीजेपी हमें परेशान करेगी तो क्या हम चुपचाप बैठकर तमाशा देखेंगे। हम उनके इलाकों में जाएंगे।' ममता ने यह भी कहा था कि 'मैं एक हिंदू हूं लेकिन मेरा हिंदुत्व, हिंदवाद के लिए अपमान नहीं है। बीजेपी तो हिंदु धर्म पर एक धब्बा है। उनकी राजनीति फूट डालो और राज करो है।'

यह भी पढ़ें-

फेसबुक पर भी बनर्जी ने गुस्सा जाहिर करते हुए लिखा 'धार्मिक संगठन का एक हिस्सा जो कि केंद्र में शासित राजनीतिक पार्टी से ताल्लुक रखता है और जिसके कई अन्य संस्थाएं भी हैं, मेरे विचारों को तोड़ मरोड़कर प्रस्तुत कर रही हैं, वह फेक अकाउंट के जरिए मेरी तस्वीरों के साथ लोगों को भ्रमित कर रही है।'