नीतीश के काफिले पर हमले को लेकर तेजस्वी का बयान, 'ये तो होना ही था'

Edited by: Web_team Updated: 13 Jan 2018 | 05:53 AM
detail image

पटना। शुक्रवार को बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के काफिले के ऊपर हुए हमले को लेकर पूर्व उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने एक तरफ दुख व्यक्त किया है, तो दूसरी ओर कहा है कि ये तो होना ही था।

नीतीश के विकास समीक्षा यात्रा को लेकर तेजस्वी ने कहा "जिस दिन से नीतीश कुमार ने समीक्षा यात्रा की शुरुआत की है, उसी दिन से उन्हें लोगों के विरोध, प्रदर्शन और नारेबाजी का सामना करना पड़ रहा है। मुख्यमंत्री को पहले अपने व्यक्तित्व और राजनीतिक चरित्र की समीक्षा करनी चाहिए, उसके बाद बिहार के विकास की समीक्षा।"

वहीं, नीतीश पर तंज कसते हुए तेजस्वी ने कहा कि विकास समीक्षा यात्रा के दौरान नीतीश कुमार की सभा में कहीं जूते-चप्पल चलते हैं, तो कहीं भीड़ को खदेड़ने के लिए पुलिस वालों को हवाई फायरिंग करनी पड़ती है। मगर सरकारी तंत्र बहुत ही शातिर तरीके से मुख्यमंत्री के विरोध प्रदर्शन को खबर नहीं बनने देता है।

साथ ही उन्होंने कहा "सरेआम मुख्यमंत्री पर हमला हो रहा है, लेकिन इस महा जंगलराज स्थिति पर किसी भी टीवी चैनल पर कोई डिबेट नहीं होता है, क्योंकि जंगलराज का राग अलापने वाले बीजेपी नेता सुशील कुमार मोदी इस वक्त प्रदेश के उप मुख्यमंत्री है। कहीं मुख्यमंत्री पर हमले इसीलिए तो नहीं हो रहे कि वो उप मुख्यमंत्री सुशील मोदी को अपने साथ विकास समीक्षा यात्रा में लेकर नहीं जा रहे हैं?"

बता दें कि नीतीश कुमार अपने विकास समीक्षा यात्रा के दौरान शुक्रवार को बक्सर जिले में थे, जब वो नंदन गांव से गुजर रहे थे तो उनके काफिले पर स्थानीय लोगों ने जमकर पथराव कर दिया। गुस्साए लोगों की मांग थी कि नीतीश उनके गांव में कुछ देर रुकें और वहां की समस्याएं सुनें।