Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

84वें वायुसेना दिवस पर तेजस व सुखोई ने दिखाए करतब, पीएम ने दी बधाई

Edited By: Editor
Updated On : 2016-10-08 06:06:53
84वें वायुसेना दिवस पर तेजस व सुखोई ने दिखाए करतब, पीएम ने दी बधाई
84वें वायुसेना दिवस पर तेजस व सुखोई ने दिखाए करतब, पीएम ने दी बधाई

नई दिल्ली। भारतीय वायुसेना ने शनिवार को अपना 84वां स्थापना दिवस पूरे उत्साह के साथ मनाया। दिल्ली से सटे गाजियाबाद के हिंडन एयरबेस पर भारतीय वायुसेना ने पूरी दुनिया को अपनी ताकत दिखाई। भारत की ये ताकत देखकर पूरी दुनिया दंग रह गयी। हिंडन एयरबेस पर वायुसेना दिवस के कार्यक्रम में वायुसेना प्रमुख अरूप राहा भी पहुंचे। कार्यक्रम में थल सेना प्रमुख जनरल दलबीर सिंह सुहाग भी पहुंचे थे। राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वायुसेना दिवस पर जवानों को बधाई दी। जवानों को संबोधित करते हुए वायुसेना प्रमुख ने कहा कि हाल में सेना पर हुए हमले इस बात की ओर इशारा करते हैं कि हम कितने मुश्किल समय में जी रहे हैं। उन्होंने कहा कि अगले कुछ सालों में 36 राफेल विमानों के मिलने से निकट भविष्य में हमारे परिचालन क्षमता में वृद्धि होगी।

वायुसेना के कार्यक्रम की शुरुआत आकाश गंगा की टीम ने 2000 फीट की ऊंचाई से पैराशूट से कार्यक्रम स्थल पर उतर कर की। आकाश गंगा की टीम का नेतृत्व वायुसैनिक गजानन यादव ने की। वायुसेना के सबसे पुराने विमानों से लेकर दुनिया के सबसे आधुनिक फाइटर एयरक्राफ्ट में से एक सुखोई ने आसमान में अपनी ताकत दिखायी। पहली बार फ्लाई-पास्ट में स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस ने भी शिरकत किया। फ्लाई पास्ट में सुखोई और तेजस के अलावा मिराज, जगुआर और मिग लड़ाकू विमान ने भी आसमान में अपना करतब दिखाया। इन सबके अलावा दुनिया के सबसे बड़े और शक्तिशाली मिलेट्री ट्रांसपोर्ट एयरक्राफ्ट, सी-17 ग्लोबमास्टर और एवक्स विमान और हेलीकॉप्टर की ताकत भी देखने को मिली ।

उम्मीद जताई जा रही है कि इस साल के अंत तक ब्रह्मोस मिसाइल भी वायुसेना में शामिल हो जाएगी। सुखोई फाईटर प्लेन में ब्रह्मोस मिसाइल लगने से वायुसेना की ताकत कई गुना बढ़ जाएगी। माना जा रहा है कि दुनिया में अभी तक किसी भी देश के पास इस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल का कोई तोड़ नहीं है। पाकिस्तान को तो छोड़िए चीन भी भारत की इस ताकत से डरता है।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार