84वें वायुसेना दिवस पर आसमान में गरजेगा 'तेजस'

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-10-08 10:39:48
84वें वायुसेना दिवस पर आसमान में गरजेगा 'तेजस'

नई दिल्ली। शनिवार को भारतीय वायुसेना अपना 84वां स्थापना दिवस मना रही है। इस मौके पर वायुसेना अपनी पूरी ताकत का प्रदर्शन कर रही है। एयरफोर्स डे परेड में इस बार का सबसे बड़ा आकर्षण हल्का लड़ाकू विमान तेजस होगा। तेजस की उड़ान को पहली बार जनता के लिए आम किया जाएगा। इस बार परेड के दौरान दुनिया भर में मशहूर एरोबैटिक्स डिस्प्ले टीम 'रेड एरोज' का भी प्रदर्शन होने की उम्मीद है।


तीन दशक से ज्यादा समय लगने के बाद भारतीय वायुसेना को स्वदेशी लड़ाकू विमान तेजस मिला है। घरेलू तकनीकी दिक्कतों के साथ-साथ अंतरराष्ट्रीय पाबंदियों के कारण इसके विकास में देरी हुई। हालांकि, विमान को स्वदेशी बताया जाता है, लेकिन अगर सूत्रों की माने तो इसमें एक तिहाई पुर्जे विदेशी हैं। तेजस के लिए उपकरणों की सप्लाई करने वाली एक कंपनी के अधिकारी ने बताया कि इस विमान के विकास में देरी का मुख्य कारण इंजन का विकास सही समय पर नहीं हो पाना था। इसके लिए स्वदेशी कावेरी इंजन की योजना को 1989 में मंजूरी मिली। इसे 1996 तक विकसित करना था लेकिन मामला 2009 तक खिंच गया। सरकार ने करोड़ों रुपये फूंके लेकिन प्रोजेक्ट समय पर पूरा होता नजर नहीं आ रहा था।

आपको बता दें कि तेजस का इंजन विदेशी है। इसे एक अमेरिकी कंपनी ने बनाया है। वायुसेना को राफेल विमानों की सप्लाई के साथ फ्रांस ने कावेरी प्रोजेक्ट को पूरा करने का भी प्रस्ताव दिया है। तेजस पिछले पांच दशक से वायुसेना में इस्तेमाल हो रहे मिग-21 की जगह लेगा। इसके दो विमानों को जुलाई में वायुसेना में शामिल किया गया था।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार