Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

चाहो तो फांसी दे दो, मेरे कहने पर ही तोड़ा गया ढांचाः राम विलास वेदांती

Edited By: Vijayashree Gaur
Updated On : 2017-04-21 02:49:22
चाहो तो फांसी दे दो, मेरे कहने पर ही तोड़ा गया ढांचाः राम विलास वेदांती
चाहो तो फांसी दे दो, मेरे कहने पर ही तोड़ा गया ढांचाः राम विलास वेदांती

नई दिल्ली। पूर्व सांसद और रामजन्म भूमि न्यास के सदस्य और पूर्व बीजेपी सांसद राम विलास वेदांती ने दावा किया कि अयोध्या में बाबरी ढांचा उनके कहने पर तोड़ा गया। वेदांती की मानें तो उन्होंने ही कार सेवकों को ढांचा तोड़ने के आदेश दिए थे।

यह भी पढ़ें- अयोध्याः मुस्लिम समुदाय ने लगाए जय श्री राम के नारे,बोले- मंदिर बनाओ

उनके मुताबिक वीएचपी के दिवंगत नेता अशोक सिंघल के अलावा महंत अवैधनाथ भी इस साजिश में शामिल थे। बाबरी मस्जिद का विवादित ढांचा तोड़ने पर बीजेपी के सीनियर नेताओं पर कानूनी शिकंजा कसा है। ऐसे में वेदांती का बयान पार्टी की मुश्किलें बढ़ा सकता है।

वेदांती का कहना था कि भले ही उन्हें फांसी हो जाए, लेकिन वह अपने बयान से नहीं पलटेंगे। सुप्रीम कोर्ट के नए आदेश के बाद बाबरी मस्जिद विध्वंस मामला फिर से चर्चा में है। सुप्रीम कोर्ट ने वरिष्ठ बीजेपी नेता लालकृष्ण आडवाणी, मुरली मनोहर जोशी और उमा भारती समेत 13 लोगों के खिलाफ आपराधिक साजिश का मुकदमा चलाने का आदेश दिया है।

यह भी पढ़ें- NGT का श्री श्री रविशंकर से बढ़ा टकराव, कहा आरोप चौंकाने वाले

हालांकि, इनमें से तीन का निधन हो चुका है तो अब 10 लोगों के खिलाफ मुकदमा चलेगा। अदालत ने दो साल के अंदर सुनवाई पूरी करने समेत कई बड़े फैसले किए हैं। इससे पहले सुप्रीम कोर्ट ने कहा था कि मामले को दोनों पक्ष बातचीत के जरिए सुलझाएं।

बाबरी मस्जिद विध्वंस का मामला दरअसल 6 दिसंबर 1992 का है। जब हजारों की संख्या में कारसेवकों ने अयोध्या पहुंचकर बाबरी मस्जिद को ढहा दिया। इसके बाद बाद देश भर में सांप्रदायिक दंगे हुए।

यह भी पढ़ें- खराब खाने की शिकायत करने वाला तेज बहादुर BSF से बर्खास्त

सीबीआई ने कोर्ट से बीजेपी के वरिष्ठे नेता लालकृष्ण आडवाणी, यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह, मुरली मनोहर जोशी और मध्य प्रदेश की पूर्व सीएम उमा भारती सहित 13 नेताओं के खिलाफ आपराधिक साजिश का मुकदमा चलने की मांग की थी। सीबीआई की ओर से पेश वकील नीरज किशन कौल ने सुप्रीम कोर्ट से अपील की थी कि रायबरेली की कोर्ट में चल रहे मामले को भी लखनऊ की स्पेशल कोर्ट में ट्रांसफर कर ज्वाइंट ट्रायल चलाया जाए।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार