Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

खाद्द विभाग अधिकारी ने बताया, रात में सोने से पहले बर्तन धोना जरुरी

Edited By: Vijayashree Gaur
Updated On : 2017-05-07 15:57:26
खाद्द विभाग अधिकारी ने बताया, रात में सोने से पहले बर्तन धोना जरुरी
खाद्द विभाग अधिकारी ने बताया, रात में सोने से पहले बर्तन धोना जरुरी

बांदा। खाद्य पदार्थों का इस्तेमाल कैसे किया जाए और उनकी गुणवत्ता बरकरार रखने संबंधी विभिन्न सुझाव स्वच्छ किचन सुरक्षित जीवन के अंतर्गत दिए गए। खाद्य सुरक्षा विभाग के अधिकारियों ने कई टिप्स दिए जिसमें कहा गया है कि रात में सोने से पहले किचन के बर्तन जरूर धोकर रखें। ताकि बर्तनों पर लगी जूठन में माइक्रोव्स उत्पन्न न होने पाएं।

यह भी पढ़ें- इलाहाबाद से चित्रकूट के लिए शुरू होगी हवाई सेवा !

गर्मी के मौसम को देखते हुए खाद्य सामग्री के इस्तेमाल व स्वच्छता बनाए रखने पर विशेष जोर दिया जा रहा है। खाद्य सुरक्षा एवं औषधि प्रशासन के अभिहित अधिकारी चंद्रशेखर मिश्र ने स्वच्छ किचन सुरक्षित जीवन के अंतर्गत कई आवश्यक सुझाव व जानकारी दी है। बताया कि खाद्य पदार्थों को ढककर रखना चाहिए। ताकि धूल, मिट्टी, मक्खी व काकरोच से बचाया जा सके। सब्जी, फल व बर्तन धोने के लिए स्वच्छ पेयजल का इस्तेमाल करें ताकि दूषित पानी के संक्रमण से बचा जा सके।

खाद्य पदार्थों को ढकने, रोटी लपेटने व खाद्य सामग्री रखकर खाने में अखबारी कागज का इस्तेमाल न करें। क्योंकि इसमें लेड एवं प्लेटेनियम आक्साइड पाया जाता है जो कि कैंसर एवं अल्सर का कारक होता है। इसके अलावा उन्होंने बाजार से खाद्य तेल व मसाले के बंद पैकेट ही खरीदने की सलाह दी।

खाद्य पदार्थों को जाली अथवा मारकीन के कपड़ों से ढककर रखने, भोजन तैयार करने में स्वच्छ पेयजल का प्रयोग करने, अनावश्यक रंगों का प्रयोग न करने, हमेशा ताजे फल एवं सब्जियों के इस्तेमाल की सलाह दी। कहा कि फल एवं सब्जी को काटकर पहले से न रखें। खाद्य सामग्री वाली पैकिंग की इक्सपायरी डेट/बेस्ट विफोर डेट देखकर खरीदें। इसके अलावा खाना बनाते समय बाल खुले न रखने व रसोई में क्रास वेंटिलेशन की व्यवस्था किए जाने की बात कही।

यह भी पढ़ें- अधिकारियों की सेवा में लगे सफाईकर्मी तो कैसे होगी गांव में सफाई?

फ्रिज के इस्तेमाल के बारे में जानकारी दी गई। बताया कि इसकी मासिक सफाई होनी चाहिए। सामग्री को ढककर रखें। रंगीन पालीथिन का प्रयोग खाद्य पदार्थों को रखने व ले जाने में भी मना किया गया है। वर्कयुक्त व रंगीन मिठाइयों से परहेज करने, चाय की पत्ती का एक बार से ज्यादा प्रयोग न करने की जानकारी दी।


बुंदेलखंड पर शीर्ष समाचार


x