आपातकाल में मीडिया की आवाज़ दबाई गईः पीएम मोदी

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-16 17:37:50
आपातकाल में मीडिया की आवाज़ दबाई गईः पीएम मोदी

नई दिल्ली। राष्ट्रीय प्रेस दिवस पर प्रेस काउंसिल में आोयजित कार्यक्रम में पत्रकारों को संबोधित करते हुए पीएम नरेन्द्र मोदी ने कहा कि कांग्रेस द्वारा थोपे गए आपातकाल में मीडिया की आवाज़ की दबाया गया। उन्होंने कि सरकारों को मीडिया में दखल नहीं देना चाहिए, क्योंकि लोकतंत्र में अभिव्यक्ति की आजादी सबसे अह्म है।

पीएम मोदी ने अभिव्यक्ति की आजादी की बहस को आगे बढ़ाते हुए कहा कि मीडिया की गलतियों से उसका आकलन नहीं किया जाना चाहिए। बकौल प्रधानमंत्री, 'पत्रकारिता का एक अनिवार्य हिस्सा यह भी है कि जो दिखता है सुनाई देता है उसके सिवाय भी कुछ खोजना।' पीएम ने आगे कहा कि अक्सर पत्रकार मित्रों की शिकायत होती है कि सूचनाएं मिल ही नहीं पाती हैं।

ये भी पढ़ें- जन-धन खातों में नहीं जमा कर सकेंगे 50 हजार से ज्यादा रुपए

बीते दिनों कई पत्रकारों की हत्या पर बोलते हुए पीएम ने कहा कि सत्य उजागर करने वालों की हत्या चिंताजनक है। पीएम ने यह भी कहा कि सरकार और मीडिया में संवादहीनता नहीं होनी चाहिए।

पीएम ने स्वच्छता अभियान का जिक्र करते हुए कहा कि स्वच्छता अभियान को बढ़ाने में मीडिया ने अहम भूमिका निभाई है। पीएम ने आगे कहा कि देश सिर्फ वो नहीं टेलीविजन पर दिखता है। देश में इस वक्त एक सकारात्मक माहौल बन रहा है।

ये भी पढ़ें- नोट बंदी का उपभोक्ता की आय पर डे़ढ़ से दो महीने रहेगा असर

वर्ष 1975 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी द्वारा देश में थोपे गए आपातकाल की याद दिलाते हुए पीएम मोदी ने कहा कि हम सभी को याद है कि कैसे आपातकाल के दौर में प्रेस परिषद को बंद कर दिया गया था। उन्होंने आपातकाल में मीडिया की आवाज दबाने का जिक्र करते हुए कहा कि हालात तब सुधरे जब मोरारजी देसाई प्रधानमंत्री बने।

पीएम ने मीडिया की सकारात्मक भूमिका पर जोर दिया। पीएम मोदी ने कहा कि मीडिया ने राज्यवार विकास की रिपोर्ट प्रकाशित कर राज्यों के बीच सकारात्मक प्रतिस्पर्धा का भाव विकसित किया है।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार