Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

रॉबर्ट वाड्रा वाली ख़बर पर इन्ही बीजेपी के नेताओं ने तारीफ की थी: रोहिणी सिंह

Edited By: Ankur Maurya
Updated On : 2017-10-12 14:34:43
रॉबर्ट वाड्रा वाली ख़बर पर इन्ही बीजेपी के नेताओं ने तारीफ की थी: रोहिणी सिंह via
रॉबर्ट वाड्रा वाली ख़बर पर इन्ही बीजेपी के नेताओं ने तारीफ की थी: रोहिणी सिंह

नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) के अध्यक्ष और राज्य सभा सांसद अमित शाह के बेटे जय अमित शाह की कंपनी से जुड़ी रिपोर्ट का खुलासा करने वाली पत्रकार रोहिणी सिंह का कहना है कि मैंने अपना काम किया है, यह कोई बहादुरी नहीं है यही तो पत्रकारिता है। उन्होंने कहा कि जब मैंने रॉबर्ट वाड्रा वाली ख़बर की थी तब इन्ही बीजेपी के नेताओं ने तारीफ की थी।

रोहिणी सिंह ने कहा कि यही तो पत्रकारों का काम है कि मौजूदा सरकार के कामों पर सवाल करें। यही पत्रकारिता के मूल कर्तव्य हैं जो हमें सिखाए जाते हैं। मुझे या द वायर या किसी को भी ऐसा नहीं लगता कि हम कोई बहादुरी का काम कर रहे हैं, हम बस एक रिपोर्ट पर काम कर रहे थे, जिसे पत्रकारिता कहते हैं।

'द वायर' को दिए गए एक इंरव्यू में मैंने इस रिपोर्ट पर बहुत मेहनत की है। रजिस्ट्रार ऑफ कंपनीज (ROC) से दस्तावेजों को डाउनलोड करके अध्ययन किया। हां, ये नहीं बता सकती कि खबर का स्रोत क्या है और खबर कहां से मिली, लेकिन ROC से दस्तावेजों को निकाल कर उन्हें पढ़ना, समझना और अध्ययन करना वो सब मैंने संपादकों की मदद से पूरा किया है।

उन्होंने कहा कि मैंने ये काम यूपीए के कार्यकाल के दौरान भी किया था। रही बात दबाव की तो इस तरह की कहानियों को करने में हमेशा दबाव रहता है लोग आपको फोन करके भी कहते हैं कि इस पर खबर मत करो। इस खबर के लिए तो मुझसे ये भी कहा गया कि ‘सुरक्षित रहना’। मुझे नहीं पता कि सुरक्षित रहने से उन लोगों का क्या मतलब था। लो

उन्होंने कहा कि इस खबर को करने में जितना दबाव था उतना कभी नहीं देखा, जैसे मैंने पहले रॉबर्ट वाड्रा पर खबर की थी तब इस तरह का दबाव नहीं था, वो खबर बहुत आसानी से की और करने के बाद इस तरह की प्रतिक्रियाएं नहीं देखने को मिली। इससे पहले मैंने आनंदी बेन पटेल की बेटी पर खबर की थी पर उसमें भी इतना दबाव नहीं था। पर इस खबर को करने के बाद जो प्रतिक्रियाएं मिल रहीं है उनकी वजह से मैं प्रोत्साहित हुई हूं।

रोहिणी ने कहा कि जब मैंने रॉबर्ट वाड्रा पर जब खबर की थी तब न तो सोशल मीडिया इतना सक्रिय हुआ करता था न सरकार की तरफ से इतना दबाव था कि मंत्री आकर एक वेबसाइट और पत्रकार पर निशाना साध रहे हैं। न ही कोई मानहानि का केस हुआ न ही कभी आगे काम करने में दिक्कत हुई। मैंने आराम से 2G और कॉमनवेल्थ पर खबरें करी।

उन्होंने कहा कि उस समय भाजपा के इन्हीं मंत्रियों के फोन आए थे और कह रहे थे कि कोई पत्रकार नहीं करता आपने बहुत बहादुरी का काम किया है और मुझे बहुत मुबारकबाद दे रहे थे, मैं ये नहीं कह रही की कोई मेरी तारीफ करे मैं बस अपना काम कर रही हूं।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार


x