आज से शुरू होगा संसद का शीतकालीन सत्र, हंगामे के आसार

Edited by: Aniket Updated: 15 Dec 2017 | 04:42 AM
detail image

नई दिल्ली। गुजरात चुनाव में चली आ रही सियासी गहमा-गहमी और दूसरे चरण की वोटिंग के बाद आज से संसद का शीतकालीन सत्र शुरू हो रहा है। ऐसे में इस बार का सत्र काफी हंगामेदार रहने की संभावना है।

जहां शीतकालीन सत्र के पहले ही दिन विपक्ष इस मुद्दे को उठाएगा की गुजरात चुनावों के लिए संसद के शीतकालीन सत्र में देरी क्यों की गई, तो वहीं केंद्र सरकार इस सत्र में तीन तलाक पर विधेयक पेश करने की तैयारी कर रही है, लेकिन इन सबके बीच आगामी संसद के सत्र में कई अहम बिलों पर भी चर्चा होने की संभावना है।

संसद के आगामी सत्र के हंगामेदार होने की पूरी उम्मीद है। इस सत्र में कांग्रेस कई मुद्दों पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को निशाने पर लेती नजर आ सकती है। संभावना ये भी की जा रही है। कि कांग्रेस समेत पूरा विपक्ष जीएसटी, नोटबंदी, राफेल डील, और जीडीपी में आई गिरावट को लेकर सरकार पर हमलावर होगा।

कांग्रेस शुरुआत से ही जीएसटी को लागू करने के फैसले को जल्दबाजी में लिया गया कदम बताती आई है। ऐसे में शीतकालीन सत्र में एनडीए सरकार को कांग्रेस का भारी विरोध झेलना पड़ सकता है। संसद का शीतकालीन सत्र शुरू होने से पहले केंद्र सरकार ने अन्य दलों के साथ सर्वदलीय बैठक की और सभी दलों को मिलकर सत्र चलाने का आह्वान किया।

संसदीय कार्य मंत्री ने कहा संसद चर्चा का सर्वोच्च स्थान है और सरकार नियमों के तहत किसी भी मुद्दे पर चर्चा करने को तैयार है ऐसे में सभी राजनीतिक दलों से अपील है कि वे महत्वपूर्ण विधेयकों पर उपयोगी और रचनात्मक बहस में सहयोग कर संसद के दोनो सदनों की कार्यवाही सुचारू रूप से चलने दें।

संसद का शीतकालीन सत्र 15 दिसंबर से लेकर 5 जनवरी तक चलेगा। 21 दिन चलने वाले सत्र में दोनों सदनों में कुल 14 बैठकें होंगी। जबकि पिछले साल शीतकालीन सत्र में 22 बैठकें हुई थीं। बहरहाल अब सबकी निगाहें संसद के शीतकालीन सत्र पर टिकी हैं, जो गुजरात चुनाव के रिजल्ट से सिर्फ तीन दिन पहले शुरू हो रहा है।