Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

तीन तलाक: नया कानून शरीयत से न टकराए, इसका ध्यान रखे सरकार: उलेमा

Edited By: Shivani
Updated On : 2017-11-22 15:26:25
तीन तलाक: नया कानून शरीयत से न टकराए, इसका ध्यान रखे सरकार: उलेमा via
तीन तलाक: नया कानून शरीयत से न टकराए, इसका ध्यान रखे सरकार: उलेमा

नई दिल्ली। केंद्र सरकार द्वारा तीन तलाक को लेकर कानून बनाए जाने के मामले में सहारनपुर के देवबंद में फतवा ऑनलाइन के चेयरमैन मौलाना मुफ्ती अरशद फारुकी का कहना है कि शरीयत में पहले से तीन तलाक को लेकर कानून बना हुआ है। इसलिए नया कानून लाने से पहले एक बार सोचना चाहिए।

फारुकी का कहना है कि नया कानून शरीयत कानून से न टकराए, इस बात का सरकार को ध्यान रखना चाहिए। अरबी के प्रसिद्ध विद्वान मौलाना नदीमुल वाजदी का कहना है कि तीन तलाक को लेकर जो मामला चल रहा है, उसमें ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड और जमीयत उलमा-ए-हिंद जैसी तंजीमें पैरोकारी कर रही हैं।

वाजदी ने कहा कि इस मामले में भी उनको हस्तक्षेप करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सरकार जल्दबाजी में कोई कदम न उठाए। जफरयाब जिलानी ने कहा कि तीन तलाक पर सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार को कानून बनाने के लिए कहा था। जिसमें सरकार ने इस पर किसी भी प्रकार का कानून बनाने की जरूरत होने से मना कर दिया था।

उन्होंने कहा कि अब सरकार तीन तलाक को लेकर कानून बनाए जाने की खबरें बाहर निकालकर गुजरात चुनाव को प्रभावित करना चाहती है, ताकि मुसलमानों को भ्रमित कर इसमें उलझाया जा सके।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार


x