मुंबई में हुए 26/11 आतंकी हमले की आज 8वीं बरसी

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-26 12:43:26
मुंबई में हुए 26/11 आतंकी हमले की आज 8वीं बरसी

नई दिल्ली। मुंबई में हुए 26/11 आतंकी हमले को आठ साल हो गए हैं। 26 नवंबर, 2008 में हुए आतंकी हमले ने पूरे देश को दहशत में डाल दिया था। चारों और मौत दिखाई दे रही थी। जहां इस हमले को हुए आठ साल हो गए है, वहीं इस हमले का मास्टरमाइंड अभी भी खुली हवा में सांस ले रहा है।

26 नवंबर, 2008 को लश्कर-ए-तैयबा के 10 आतंकी समुद्री रास्ते से मुंबई में दाखिल हुए और करीब 170 बेगुनाहों को बेरहमी से गोलियों से छलनी कर दिया था।

बता दें कि इस हमले में 308 लोग जख्मी भी हुए। हमले में अजमल कसाब सहित 10 आतंकवादी शामिल थे। जिंदा पकड़े गए एकमात्र आतंकी अजमल कसाब को साल 2012 को फांसी दे दी गई।

यह भी पढ़ें- क्या पीओके भारत के बाप का है जो वो इस पर दावा करता हैः फारुक अब्दुल्ला

रात के तकरीबन साढ़े नौ बजे कोलाबा इलाके में आतंकवादियों ने पुलिस की दो गाडिय़ों पर कब्जा किया। इल लोगों ने बंदूक की नोंक पर पुलिस वालों को गाड़ी से उतार कर गाडिय़ों को लूट लिया। एक गाड़ी कामा हॉस्पिटल की तरफ निकल गई, जबकि दूसरी गाड़ी दूसरी तरफ चली गई।

तकरीबन 6 आतंकवादियों का एक गुट ताज की तरफ बढ़ाता जा रहा था। उनके रास्ते में लियोपार्ड कैफे आया, जहां बहुत भीड़-भाड़ थी। भारी संख्या में विदेशी भी मौजूद थे। हमलावरों ने अचानक एके 47 लोगों पर तान दी और देखते ही देखते लियोपार्ड कैफे के सामने खून की होली खेली जाने लगी।

यह भी लढ़े- जम्मू कश्मीर: आतंकियों से मुठभेड़ में 1 जवान शहीद, 2 आतंकी ढेर

बंदूकों की तड़तड़ाहट से पूरा इलाका गूंज उठा, लेकिन आतंकवादियों का लक्ष्य यह कैफे नहीं था। गोली चलाते, ग्रेनेड फेंकते हुए आतंकी ताज होटल की तरफ चल दिए।

वहीं, छत्रपति शिवाजी टर्मिनस स्टेशन के अलावा आतंकियों ने ताज होटल, होटल ओबेरॉय, लियोपोल्ड कैफ़े, कामा अस्पताल और दक्षिण मुंबई के कई स्थानों पर हमले शुरु कर दिए थे। इस दर्दनाक घटना को आठ साल हो गए, लेकिन ज़ख्म आज तक जिंदा हैं। वहीं, हमले का मास्टरमाइंड हाफिज सईद अभी भी आजाद है।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार