भारत से डिफेंस सहयोग बढ़ाएगा US, 621.5 अरब का रक्षा व्यय विधेयक पारित

Edited by: Shiwani_Singh Updated: 15 Jul 2017 | 04:44 PM
detail image

नई दिल्ली। आतंकवाद और दक्षिण एशिया में शक्ति संतुलन बनाए रखने के लिए अमेरिका और भारत पिछले काफी समय से कोशिश कर रहा है। अब इस कड़ी में माना जा रहा है कि अमेरिका कुछ और कदम उठाएगा। अमेरिका की प्रतिनिधि सभा ने 621.5 अरब डॉलर का रक्षा व्यय विधेयक पारित किया है, जिसमें भारत के साथ रक्षा सहयोग बढ़ाए जाने का प्रस्ताव रखा गया है।

यह भी पढ़ें-पहली बार डोनाल्ड ट्रंप के खिलाफ पेश हुआ महाभियोग का प्रस्ताव

भारतीय अमेरिकी सांसद अमी बेरा द्वारा इस संबंध में पेश किए गए संशोधन को सदन ने ‘नेशनल डिफेंस ऑथोराइजेशन एक्ट (NDAA) 2018 के भाग के रूप में सर्वसम्मती से पारित किया है। यह कानून इस साल 1 अक्तूबर से लागू होगा। NDAA -2018 को सदन ने 81 के मुकाबले 344 मतों से पारित किया था।

सदन द्वारा पारित संशोधन में कहा गया है कि विदेश मंत्री के साथ बातचीत करके रक्षा मंत्री अमेरिका एवं भारत के बीच रक्षा सहयोग बढ़ाने की रणनीति बनाएंगे। बेरा ने कहा, 'अमेरिका दुनिया की सबसे पुरानी और भारत सबसे बड़ी लोकतांत्रिक व्यवस्था है। यह बहुत महत्वपूर्ण है कि दोनों देशों के बीच रक्षा सहयोग बढ़ाने के लिए रणनीति बनाई जाए।'

यह भी पढ़ें-अमेरिका, ब्रिटेन को पछाड़ मोदी सरकार फोर्ब्स की वैश्विक सूची में बनी नंबर वन

उन्होंने कहा, ‘मैं आभारी हूं कि इस संशोधन को पारित किया गया। मैं साझा सुरक्षा चुनौतियों, सहयोगियों की भूमिका और विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में सहयोग जैसे अहम मामलों मे रक्षा मंत्रालय की रणनीति का इंतजार कर रहा हूं।' बेरा ने कहा, 'अमेरिका एवं भारत के बीच सहयोग से हमारी अपनी सुरक्षा एवं 21वीं सदी में सुरक्षा चुनौतियों का सामना करने की हमारी क्षमता भी बढ़ेगी।'