Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

उमा भारती ने किया खुलासा, करेंसी बंदी के बाद क्या है मोदी का निशाना

Edited By: Editor
Updated On : 2016-11-13 03:02:49
उमा भारती ने किया खुलासा, करेंसी बंदी के बाद क्या है मोदी का निशाना
उमा भारती ने किया खुलासा, करेंसी बंदी के बाद क्या है मोदी का निशाना

टीकमगढ़। करेंसी बंदी के बाद प्रधानमंत्री मोदी द्वारा एक बार फिर से किसी बड़ी कार्रवाई के निर्देश दिए है, तब से एक बार फिर अफवाहों का बाजार गर्म हो गया है। मोदी के इस कार्रवाई के निर्देश पर खुलासा करते हुए केंद्रीय मंत्री उमा भारती ने कहा कि मोदी की अगली कार्रवाई स्वास्थ्य और शिक्षा के क्षेत्र में होगी।

टीकमगढ़ में संवाददाताओं से बातचीत के दौरान उमा ने कहा कि काले धन के खिलाफ पीएम द्वारा चलाई जा रही स्कीम जो धन राशि आएगी उसका उपयोग शिक्षा और स्वास्थ्य के क्षेत्रों में किया जाएगा, जिसको देखते हुए लगता है कि मोदी अगली कार्रवाई इसी क्षेत्र में करेंगे।

करेंसी बंदी पर बातचीत करते हुए उमा ने कहा, सरकार द्वारा लिए गए इस फैसले से आम जनता को 2 से 4 दिनों की ही परेशानी झेलनी पड़ेगी, लेकिन इससे देश को लाभो होगा और कालाधन रखने वालों के पसीने छुटेंगे।

कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी व अन्य विपक्षी नेताओं द्वारा प्रधानमंत्री पर लगाए जा रहे आरोपों का जवाब देते हुए उन्होंने कहा, “विपक्ष के नेताओं को अब कुछ न कुछ करना होगा, क्योंकि मोदी इनके सामने काफी बड़े हो गए हैं, मोदी हो गए हैं चांद के जैसे और वे हैं जुगनू के समान, जब जुगनू टिमटिमाएगी तब तो दिखेगी।”

बड़े नोटों को अमान्य किए जाने के फैसले के विरोध कर रही राजनीतिक पार्टियों के बारे में बोलते हुए उमा ने कहा कि सरकार के उस फैसले से समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी को सबसे ज्यादा परेशानी हो रही है,
क्योंकि इनके पास इतने नोट हैं कि वे किसी तहखाने में रखे होंगे।

इनकी माला के नोट कहां गए यह मुझे नहीं मालूम, और समाजवादियों ने जिस तरह यमुना जी पर कब्जा कर खनन करके लूटा है, वे तो रोंएगे ही।”

यह चर्चा आम है कि उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने से तीन महीने पहले बड़े नोटों पर पाबंदी इसलिए लगाई गई है कि चुनाव में सपा, बसपा या अन्य पार्टी तहखाने में रखे नोटों का इस्तेमाल न करने पाएं और सिर्फ केंद्र में सत्तारूढ़ पार्टी ही चुनाव में नए नोट खर्च करें।


बुंदेलखंड पर शीर्ष समाचार