Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

अनोखी आस्था, मां के आशीर्वाद के लिए होंठ और गाल में चुभाते हैं सरिया

Edited By: Hindi Khabar
Updated On : 2017-04-06 23:49:20
अनोखी आस्था, मां के आशीर्वाद के लिए होंठ और गाल में चुभाते हैं सरिया
अनोखी आस्था, मां के आशीर्वाद के लिए होंठ और गाल में चुभाते हैं सरिया

रायपुर। छत्तीसगढ़ में नवरात्रि के आखिरी दिन जवारा विसर्जन की यात्रा में माता का आशीर्वाद पाने के लिए अजब-गजब तरीके अपनाएं जाते हैं। इस यात्रा को देखने के लिए भारी भीड़ उमड़ती है। ऐसा ही नजारा बुधवार की सुबह राजधानी की सड़कों पर भी दिखा।

यह भी पढ़ें-राम नवमी विशेषः ऐसे करें प्रभु श्रीराम को खुश

गौरतलब है कि जवारा विसर्जन यात्रा में महिलाएं, पुरुष और युवकों ने हिस्सा लिया। इस मौके पर महिलाएं सिर पर जवारा का कलश और उसमें जलते हुए नारियल को लेकर चल रही थीं। आगे-आगे भक्ति गीतों पर बच्चे और युवा झूम रहे थे।

यह भी पढ़ें-37 वर्षों से बदल-बदलकर एक ही कपड़े पहन रहा है यह कपल

परंपरा के तहत लोग नुकीले सरिए को अपने गाल और होंठों से आर-पार करके उसके नुकीले हिस्से पर नींबू लगाकर चल रहे थे। कुछ भौहों को तो कुछ कान को छेदकर इस प्रक्रिया को अपना रहे थे। स्थानीय भाषा में इस भेदन को सांग और बाना कहते हैं। स्थानीय लोगों की मानें तो यह माता का आशीर्वाद लेने का एक तरीका है। ऐसा माना जाता है कि जो लोग अपने आगे आने वाले लोगों को लांघ जाते हैं उन्हें मां का आशीर्वाद पुण्य मिलता है।