सुखे हुए जल स्रोतों को पुनर्जीवित करेगी उत्तराखंड सरकार

Edited by: Editor Updated: 25 Oct 2016 | 04:35 PM
detail image

देहरादून। उत्तराखंड में सूख रहे जल स्रोतों को पुनर्जीवित करने के लिए उत्तराखंड सरकार युद्धस्तर पर काम करने जा रही है। इसको लेकर उत्तराखंड के मुख्य सचिव शत्रुघ्न सिंह ने सचिवालय में मिशन टू रिवाइव स्प्रिंग इन उत्तराखण्ड के बारे में सम्बंधित विभागों और विशेषज्ञों से चर्चा की।

उत्तराखंड में सूख रहे 12 हजार जल स्रोतों को पुनर्जीवित करने का लक्ष्य रखा गया है। पहले चरण मे 100, दूसरे में 500 और शेष स्रोतों को अन्य चरणों में रिवाइव किया जाएगा। इसके लिए स्वजल के तहत स्प्रिंग शेड डेवलपमेंट टीम का गठन किया जाएगा।

लगभग 15 हजार आबादी वाले गांवो का अनुमान है। इनमें से 12 हजार गांव पर्वतीय क्षेत्रों में निवास करते है, जो जल स्रोतों पर ही निर्भर हैं। बताया गया कि जीवो हाइड्रोलाजी विज्ञान के जरिए स्रोतों के रिचार्ज जोन का पहचान किया जायेगा और इसके बाद सामान्य इंजीनियरिंग और हरियाली के माध्यम से वर्षा के पानी को जमा किया जायेगा। जमीन में रिसाव, जल स्रोतों का रिचार्ज, पारम्परिक जल संरक्षण किया जायेगा।