Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

इंदौर में गरजे वरुण गांधी, पकड़ी मोदी की कमजोर नस

Edited By: Hindi Khabar
Updated On : 2017-02-22 15:38:58
इंदौर में गरजे वरुण गांधी, पकड़ी मोदी की कमजोर नस
इंदौर में गरजे वरुण गांधी, पकड़ी मोदी की कमजोर नस

लखनऊ। इंदौर में एक कार्यक्रम में दिए भाषण में पीलीभीत से बीजेपी सांसद वरुण गांधी ने मोदी सरकार को कटघरे में खड़ा दिया। वरुण ने दिए संबोधन में हर उस मुद्दे पर बात की जो मोदी सरकार के लिए कमजोर नस मानी जाती है। वरुण मंगलवार को इंदौर के एक स्कूल में 'विचार नए भारत का' विषय पर व्याख्यान दे रहे थे।

यह भी पढ़ें- महिला ज्योतिषियों ने की यूपी चुनाव के परिणाम की भविष्यवाणी

गौरतलब है पीलीभीत से सांसद और बीजेपी नेता वरुण गांधी यूपी विधानसभा चुनाव में नदारद हैं। उन्हें यूपी विधानसभा चुनावों के लिए बीजेपी की स्टार प्रचारकों की पहली लिस्ट में तो जगह ही नहीं मिली और दूसरी लिस्ट में भी उनका नंबर सबसे आखिर में आया। सात में से चार चरणों में प्रचार पूरा हो चुका है, लेकिन वरुण कहीं सभा करते नजर नहीं आए।

बकौल वरुण, पिछले साल हैदराबाद में दलित पीएचडी छात्र रोहित वेमुला ने अपनी जान दे दी। जब मैंने उसकी चिट्ठी पढ़ी, तो मुझे रोना आ गया। इस चिट्ठी में उसने कहा, मैं अपनी जान इसलिए दे रहा हूं कि मैंने इस रूप में जन्म लेने का पाप किया है।

वरुण यहीं नहीं रूके, बीजेपी के युवा सांसद ने अल्पसंख्यकों की दुश्वारियों को भी रेखांकित करते हुए कहा कि देश की आबादी में 17.18 प्रतिशत अल्पसंख्यक हैं, लेकिन इनमें से केवल चार फीसदी लोग उच्च शिक्षा हासिल कर पाते हैं। हमें इन समस्याओं को हल करना है।

यह भी पढ़ें- इस वजह से ट्वीटर पर सुषमा को फॉलो नहीं करते उनके पति

वरुण ने देश में आर्थिक असमानता और कर्ज वसूली में भेदभाव को लेकर कहा कि देश के ज्यादातर किसान चंद हजार रुपए का कर्ज न चुका पाने के चलते जान दे देते हैं, लेकिन विजय माल्या पर सैकड़ों करोड़ रुपए का कर्ज बकाया होने के बावजूद वह एक नोटिस मिलने पर देश छोड़कर भाग गया।

उन्होंने देश के बड़े औद्योगिक घरानों पर बकाया कर्ज माफ करने पर कड़ी आपत्ति जताते हुए कहा कि अमीरों को रियायत दी जा रही है, जबकि गरीबों की थोड़ी सी संपत्ति को भी निचोड़ने का प्रयास किया जा रहा है।

यह भी पढ़ें- चुनावी विज्ञापन में बीजेपी ने सभी पार्टियों को छोड़ा पीछे

बीजेपी सांसद ने यह भी कहा कि जीडीपी विकास दर देश की तरक्की का वास्तविक पैमाना नहीं है और इस सूचकांक की वृद्धि पर फूल के कुप्पा होने की जरूरत नहीं है क्योंकि इससे स्वास्थ्य, अशिक्षा और महिलाओं की बेगारी की बुनियादी समस्याओं का हल नहीं मिलता है।

 


राजनीति पर शीर्ष समाचार


x