Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

विशाखापत्तनम देश का सबसे साफ रेलवे स्टेशन, दरभंगा सबसे गंदा: सर्वे

Edited By: Shiwani Singh
Updated On : 2017-05-18 18:03:31
विशाखापत्तनम देश का सबसे साफ रेलवे स्टेशन, दरभंगा सबसे गंदा: सर्वे
विशाखापत्तनम देश का सबसे साफ रेलवे स्टेशन, दरभंगा सबसे गंदा: सर्वे

नई दिल्ली। देश में सबसे साफ सुथरे स्टेशन का सर्वेक्षण किया गया है। इस लिस्ट में 75 व्यस्त रेलवे स्टेशनों में विशाखापत्तनम सबसे साफ सुथरा स्टेशन है। वहीं, सिकंदराबाद दूसरे स्थान पर है, जबकि बिहार का दरभंगा रेलवे स्टेशन देश के सबसे व्यस्त स्टेशनों में सबसे गंदा है।

यह सर्वेक्षण कुल 407 स्टेशनों के लिए किया गया था जिनमें से 74 ए-1 श्रेणी के हैं या सबसे व्यस्त स्टेशन हैं तथा 332 ए श्रेणी के हैं। ए श्रेणी में ब्यास रेलवे स्टेशन सबसे स्वच्छ रहा जबकि खम्माम दूसरे नंबर पर रहा।

इस क्रम में नई दिल्ली को 39वां स्थान मिला है, हालांकि निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन को 23वां और पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन को 24वां स्थान मिला। रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने सर्वेक्षण रिपोर्ट जारी की। सर्वेक्षण के अनुसार सबसे व्यस्त रेलवे स्टेशनों में जम्मू रेलवे स्टेशन को तीसरा स्थान मिला। भारतीय गुणवत्ता परिषद ने यह सर्वेक्षण कराया है।

स्वच्छता के मामले में रेलवे स्टेशनों को आंकने के लिए प्लेटफॉर्म पर स्वच्छ शौचालय, साफ ट्रैक और स्टेशनों पर कूड़ेदान कुछ मापदंड रहे। ‘स्वच्छ रेल’ अभियान के हिस्से के तौर पर रेल परिसरों की सफाई पर नजर रखने के लिए रेलवे द्वारा स्वच्छता पर कराया गया यह तीसरा सर्वेक्षण है।

प्रभु ने सर्वेक्षण रिपोर्ट जारी करने के बाद कहा, हम सभी स्टेशनों को साफ रखना चाहते हैं। कई स्टेशनों ने पिछली बार से अपनी स्वच्छता रैंकिंग में सुधार किया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी का रेलवे स्टेशन 14वें नंबर पर रहा।

अहमदनगर स्टेशन तीसरे पायदान पर रहा। ए-1 श्रेणी में दरभंगा रेलवे स्टेशन 75वें नंबर पर रहा जबकि जोगबानी ए श्रेणी में सबसे गंदा स्टेशन रहा। रेलवे के करीब 8,000 स्टेशन सालाना यात्री राजस्व के आधार पर सात श्रेणियों - ए1, ए, बी, सी, डी, ई और एफ में विभाजित हैं। जिन स्टेशनों का यात्री राजस्व एक साल में 50 करोड़ रुपए से ज्यादा हैं वे ए-1 श्रेणी में आते हैं।

ए श्रेणी वाले स्टेशनों का सालाना यात्री राजस्व छह करोड़ से 50 करोड़ रुपए के बीच है। सभी उपनगरीय स्टेशन सी श्रेणी के हैं जबकि जिन स्टेशनों पर ट्रेन रूकती है वे सभी एफ श्रेणी के हैं। रेलवे अब स्वच्छता को लेकर 200 ट्रेनों का सर्वेक्षण कराएगा।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार


x