कड़ी मेहनत से बना था महागठबंधन, 11 करोड़ लोगों का विश्वास तोड़ा: शरद यादव

Edited by: Ankur_maurya Updated: 10 Aug 2017 | 05:35 PM
detail image

नई दिल्ली। बिहार में गठबंधन टूटने के बाद जदयू के नेता शरद यादव नाराज़ नज़र आ रहे हैं और बिहार का दैरा कर रहें हैं। दौर के लिए पटना पहुंचे शरद यादव ने नीतीश कुमार का नाम लिए बिना उन पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि बिहार के 11 करोड़ लोगों को विश्वास टूटा है।

शरद यादव ने कहा कि लोकतंत्र में विश्वास का संकट आ गया है और इस संकट पर जनता से राय लेने के लिए मैं बिहार आया हूं। बिहार की जनता की राय लेना चाहता हूं कि विश्वास टूटने के बाद जनता क्या सोचती है। बिहार में नई गठबंधन की सरकार बनी है, लेकिन महागठबंधन के लिए कड़ी मेहनत की गई थी और महागठबंधन को जनादेश मिला था।

यह भी पढ़ें- शरद यादव JDU से किए जा सकते हैं निलंबित

आपको बता दें कि बिहार में नीतीश कुमार द्वारा इस्तीफे और नई सरकार बनाने के बाद से ही शरद यादव के विरोध में नजर आ रहे थे। उनके इसी विरोध का शायद नतीजा है कि जदयू उनके खिलाफ कार्रवाई करते हुए उन्हें बाहर का रास्ता दिखाने की तैयारी में है।

रिपोर्ट के मुताबिक शरद यादव के खिलाफ पार्टी कार्रवाई कर सकती है और उन्हें निलंबित भी किया जा सकता है। पार्टी व्हिप का उल्लंघन करने पर उनकी राज्यसभा से सदस्यता भी जा सकती है। शरद यादव पर पार्टी विरोधी गतिविधियों में लिप्त रहने को आधार बनाकर कार्रवाई की जा सकती है।

कहा जा रहा है कि जदयू राज्यसभा सासंद के लिए किसी नए व्यक्ति को भी चुनने की तैयारी में है। आपको बता दें कि बिहार में सत्ता परिवर्तन के बाद शरद यादव ने इसके प्रति असहमति जताते हुए सवाल उठाए थे।