Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

क्या मार करेंगे फुस्स कारतूस?

Edited By: Ankur Maurya
Updated On : 2017-03-17 11:59:50
क्या मार करेंगे फुस्स कारतूस?
क्या मार करेंगे फुस्स कारतूस?

नई दिल्ली। बीजेपी एंड पार्टी ने हिंदुस्तान के 17 राज्यों को केसरिया कर डाला है। वहीं बाकी राज्यों में प्रयास जारी है और कांफिडेंस इतना है कि अब बाकी दल 2019 में बीजेपी का सामना करने के लिए महागठबंधन पर विचार कर रहे हैं। मतलब मोदी की सुनामी में बह चुके विपक्ष को अब एक छत के नीचे बैठकर अलग-अलग विचारधाराओं के बीच संगम कराने की तैयारियां करनी पड़ रही हैं।

वहीं, इन सब से दूर बीजेपी ने अपना टार्गेट 2025 सेट कर लिया है और संकेत भी दे दिए हैं कि ना बैठूंगा ना बैठने दूंगा। यही नहीं, मोदी की ताबड़तोड़ जीत का असर विश्व की बड़ी शक्तियों को भी प्रभावित कर रहा है। यानी कि मोदी की जीत के अश्वमेघ को काबू करना चुनाव दर चुनाव विपक्षी दलों के लिए नामुमकिन होता जा रहा है।

मोदी की इसी ताकत से हो रहे बीजेपी की इस विस्तार ने देश के भूगोल को आधे से ज्यादा केसरिया कर दिया है, लेकिन मोदी रुकने वाले नहीं है। मोदी का यही अंदाज है कि हर जीत के बाद अगली जीत का टारगेट सेट हो जाता है। मोदी के राज में कुर्सी मिलने का मतलब सत्ता का सुख नहीं है, बल्कि कांटों के ताज सजाकर उम्मीदों का पहाड़ लेकर चलना हैं।

इस बात की तस्दीक खुद पीएम मोदी ने जीत के बाद दिल्ली के बीजेपी मुख्यालय में कर दी है। मोदी को मिले इसी प्रचंड बहुमत और जनसमर्थन से बीजेपी का सीना फूल रहा है। वहीं विरोधियों के दिल की धड़कने आपे से बाहर हो चली है। मोदी की सुनामी से डरा सहमा विपक्ष फिर से महागठबंधन की सूरत गढ़ने में लगा हुआ है और खुलकर यह मानता भी है कि मोदी के खिलाफ अकेले लड़ना बेवकूफी है।

शायद यही वजह है कि आज के दौर में मोदी को स्वीकार करना ना करना अलग बात है, लेकिन नजरअंदाज कर पाना भी मुश्किल है। ऐसे में हर कोई ये सोच रहा है कि यह फुस्स कारतूस क्या करेंगे मार?

*17 मार्च, शाम 7 बजे को प्रसारित प्राइम टाइम डिबेट शो ‘जो कहूंगा सच कहूंगा’ का यह एपिसोड हिन्दी ख़बर चैनल के ऑफिशियल यूट्यूब चैनल पर भी देख सकते हैं।

क्या मार करेंगे फुस्स कारतूस? Part-2 देखने के लिए नीचे लिंक पर क्लिक करें-

https://www.youtube.com/watch?v=FjEiWxycOnI