NH-74 घोटाले का खुलासा करने वाले IAS सेंथिल पांडियन को कौन मरवाना चाहता है ?

Edited by: Ankur_maurya Updated: 27 Sep 2017 | 10:18 PM
detail image

उत्तराखंड के बहुचर्चित एनएच 74 घोटाले का जिन्न एक बार फिर बोतल से बाहर आ गया है। इस घोटाले का खुलासा करने वाले IAS अधिकारी सचिव डी सेंथिल पांडियन ने अपनी जान को खतरे की आशंका जाहिर की है। उन्होंने कार्मिक विभाग को पत्र लिखकर खुद और परिवार के लिये सुरक्षा मुहैया कराने की गुजारिश की है। ऐसे में सत्ता के गलियारों में चर्चा जोरों पर है कि आखिर वो कौन बाहुबली हैं जो NH-74 घोटाले के जांच अधिकारी को डरा रहा है ?

दरअसल, पांडियन ने अपनी जान को खतरा बताते हुए पहाड़ की राजनीति में एक बार फिर भूचाल ला दिया है। पांडियन ने उत्तराखंड की प्रमुख सचिव कार्मिक राधा रतूड़ी को पत्र लिखकर अपने और परिवार पर खतरे की आशंका जताई है। पांडियन ने अपने खत में कहा है कि एनएच-74 घोटाला सामने आने के बाद कुछ लोग उन्हें व उनके परिवार को नुकसान पहुंचाने का प्रयास कर सकते हैं। लिहाजा शासन पांडियन और उनके परिवार को समुचित सुरक्षा मुहैया कराए।

अब जब पांडियन ने अपनी जान को खतरा बताया तो इस पूरे मामले पर राजनीति भी होनी शुरू हो गई है। कांग्रेस प्रदेश अध्यक्ष प्रीतम सिंह ने सरकार से अधिकारी और उसके परिवार की सुरक्षा मुहैया कराने की मांग की है जिसपर सरकार भी राजी है। कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल का कहना है कि अगर सुरक्षा की जरूरत पड़ेगी तो अवश्य दी जाएगी।

वहीं मुख्यमंत्री बनने के बाद त्रिवेंद्र सिंह रावत ने इस पूरे घोटाले की सीबीआई जांच की संस्तुति की थी, लेकिन सीबीआई ने इसे अभी तक टेकअप नहीं किया। फिलहाल फोरलेन हाईवे निर्माण में हुए 300 करोड़ से उपर के इस भूमि अधिग्रहण घोटाले की इस वक्त SIT जांच चल रही है और इस मामले में अभी तक सात पीसीएस अधिकारी निलंबित किए जा चुके हैं। इसके अलावा निचले स्तर पर भी कई कर्मचारियों पर गाज गिर चुकी है और जैसे-जैसे घोटाले की जांच आगे बढ़ रही है वैसे वैसे कई रखूखदार लोगों के नाम भी सामने आ रहे हैं। ऐसे में घोटाले में संलिप्त बाहुबलियों को डर सताने लगा है कि जांच की आंच कहीं उन तक न पहुंच जाए।