भ्रष्टाचारियों को योगी की चेतावनी 'सुधर जाओ वर्ना हम सुधार देंगे'

Edited by: Ankur_maurya Updated: 11 Oct 2017 | 08:46 PM
detail image

जब पूरा सिस्टम भ्रष्टाचार की बेड़ियों में जकड़ चुका हो, अफसरशाही योजनाओं के इर्द-गिर्द ग्रहण बनकर नाचने लगें और विभाग वंचितों के हक पर चील-कौवों की तरह टूट पड़ें तो फिर सत्ता परिवर्तन नहीं व्यवस्था परिवर्तन करने होते हैं। गवर्नेंस की किताब से हटकर कुछ क्रांतिकारी फैसले करने होते हैं, जिसकी शुरआत होती है वर्क कल्चर को बदलने से तभी संकल्पों की सिद्धी संभव है। अब उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने ये काम शुरु कर दिया है, अब भ्रष्टाचारियों से दो टूक कह दिया गया है कि सुधर जाओ वर्ना हम सुधार देंगे।

दरअसल, इन दिनों यूपी वाले योगी का जलवा हर तरफ देखने को मिल रहा है, केरल से लेकर गुजरात तक दिल्ली से लेकर हरियाणा तक सीएम योगी का जलवा कायम है और यूपी में तो योगी ने अपने ताबड़तोड़ एक्शन से अधिकारियों की नींद उड़ा रखी है। सीएम योगी लगातार बैठक कर रहे हैं, उत्तर प्रदेश को उत्तम प्रदेश बनाने के लिए दिन रात एक किए हुए हैं। फैसला ऑन द स्पॉट वाले सीएम योगी फुल एक्शन में हैं, जिससे भ्रष्ट अधिकारियों के हाथ पांव फूलने लगे हैं। यूपी में ये पहली बार हुआ है जब सरकारी सिस्टम को लूटने वालों की सांसें अटक गई है।

सीएम योगी ने यूपी से भ्रष्टाचार को जड़ से उखाड़ने का फैसला किया है। योगी को पता है कि भ्रष्टाचार की शुरूआत नौकरशाही से ही होती है, इसलिए सीएम योगी ने बुधवार को लखनऊ के योजना भवन में मुख्य विकास अधिकारियों की एक बैठक बुलाई। इस बैठक में सीएम योगी ने अधिकारियों को साफ चेतावनी दी कि शासकीय योजनाओं को समय पर और गुणवत्ता के साथ पात्र लोगों तक पहुंचाएं और अगर इसमें लापरवाही हुई और भ्रष्टाचार की तनिक भी बू आई तो संबंधित अधिकारी अपना बोरिया बिस्तर समेट ले। सीएम योगी ने साफ लहजे में अधिकारियों से कहा कि भ्रष्टाचार की शिकायत आई तो अब चेतावनी नहीं आपराधिक कार्रवाई की जाएगी।

यानी अब सीएम योगी ने यूपी को भ्रष्टाचार मुक्त बनाने की कसम खा ली है। भ्रष्टाचारी चाहे जो हो जहां भी छिपा हो, यूपी वाले योगी की नजर से अब बचने वाला नहीं है। सीएम योगी के रडार पर सबसे पहले वो अधिकारी हैं जिन्होने पिछली सरकार में सत्ता से सांठ गांठ कर जमकर मलाई चाटी थी और गरीबों के हक पर डाका डाला था।