Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

रेलवे स्टेशन पर टिकट और ग्राहक सेवा देते नजर आएंगे किन्नर!

Edited By: Ashish Kumar
Updated On : 2017-05-17 22:21:42
रेलवे स्टेशन पर टिकट और ग्राहक सेवा देते नजर आएंगे किन्नर! via
रेलवे स्टेशन पर टिकट और ग्राहक सेवा देते नजर आएंगे किन्नर!

नई दिल्ली। एक अच्छी नौकरी और खुशहाल परिवार हर किसी का सपना होता है। कुछ के सपने पूरे हो जाते हैं तो कुछ के अधूरे रह जाते हैं। कुछ ऐसे भी होते हैं जिनके सपने पूरे भी हो जाएं तो भी वो नया सपना देखने में लग जाते हैं। लेकिन इसी समाज में कुछ लोग ऐसे भी होते हैं जो बिल्कुल हमारी और आपकी तरह ही होते हैं लेकिन कुदरत उनमें ऐसी कोई कमी छोड़ देती है जिससे समाज में हीन भावना के साथ जीना पड़ता है।

यह भी पढ़ें- पश्चिम बंगालः निकाय चुनावों में खिला कमल, 7 में से 3 पर BJP+ की जीत

ऐसा ही कुछ होता है हमारे समाज में रहने वाले किन्नरों के साथ। लोग उन्हें बहुत ही हेय दृष्टि से देखते हैं। कभी-कभी तो ऐसा लगता है कि वो जैसे इंसान ही न हो। किन्नर अक्सर ट्रेन में हाथ फैलाए नज़र आ जाते हैं। किसी के मन में दया भाव आया तो उनकी झोली में चन्द सिक्के डाल देते हैं। और कई लोग जवाब दे देते हैं 'छुट्टा नहीं है, आगे बढ़ो'।

यह भी पढ़ें- J&K: अब कश्मीरी BSF अधिकारी को आतंकियों ने दी धमकी

लेकिन इन्हीं किन्नरों को लेकर कोच्चि मेट्रो रेल लिमिटेड ने एक बहुत ही सराहनीय पहल की है। अब ये किन्नर ट्रेन में दिखाई तो देंगे लेकिन हाथ फैलाए हुए नहीं, बल्कि एक कर्मचारी के रूप में हाथ बंटाते हुए। आइए आपको बताते हैं कि क्या है पूरा माजरा....

भारत में ट्रांसजेंडर समुदाय को समान अधिकार सुनिश्चित करवाने के लिए, केरला में कोच्चि मेट्रो रेल कम्पनी ने उन्हें नौकरी मुहैया कराने का निर्णय लिया है। स्टेशनों पर टिकट, गृह व्यवस्था और ग्राहक सेवा के लिए, 60 पद आरक्षित किए गए हैं। जिसमें से 23 लोगों की भर्ती हो चुकी है। इंटरव्यू की प्रक्रिया अब भी जारी है।

यह भी पढ़ें- शोषण के विरुद्ध DMRC कर्मियों का प्रदर्शन, प्रबंधन नहीं ले रहा सुध

वैसे तो किन्नरों के हक के लिए कई कानून बनते हैं। लेकिन इस बार कुदुंबश्री मिशन की सहायता से किन्नरों की मदद हो पाना मुमकिन हुआ है। यह संस्था महिलाओं और ट्रांसजेंडर के लिए नौकरियों को सुनिश्चित करवाने का काम करती है। कंपनी ने राज्य सरकार द्वारा समर्थित, कुदुंबश्री मिशन के साथ तीन साल के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए हैं।

यह भी पढ़ें- J&K: पेट्रोलिंग में जा रहे सेना के काफिले पर आतंकियों ने किया हमला

इससे पहले 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने भी ट्रांसजेंडर को समान अधिकार देते हुए, उन्हें 'थर्ड जेंडर' घोषित किया था। इन्हीं नियमों के तहत शादी करने का अधिकार, संपत्ति के वारिस का अधिकार और नौकरी एवं शैक्षिक संस्थानों में कोटे का अधिकार इन्हें दिया गया था। कोच्चि रेल कंपनी ने ट्रांसजेंडर को नौकरी का अधिकार तो दे ही दिया है।


अन्य राज्य पर शीर्ष समाचार


x