Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

दलित वोट बैंक के लिए संघ के लोग बन गए भिक्षु- मायावती

Edited By: Editor
Updated On : 2016-10-15 13:20:30
दलित वोट बैंक के लिए संघ के लोग बन गए भिक्षु- मायावती
दलित वोट बैंक के लिए संघ के लोग बन गए भिक्षु- मायावती

लखनऊ। बहुजन समाज पार्टी (बसपा) सुप्रीमो मायावती ने शुक्रवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह की धम्म चेतना यात्रा को फ्लाप बताते हुए आरोप लगाया है कि, बीजेपी ने दलितों को लुभाने के लिए पहले से योजना तैयार करके यात्रा निकलवाई।

मायावती का यह भी कहना है कि इस यात्रा के दौरान राष्ट्रीय स्वयंसवेक संघ द्वारा अपने कुछ लोगों को नकली भिक्षु बनाकर सम्मानित किया गया, ताकि बीजेपी दलितों को लुभा सकें।

बसपा सुप्रीम की ओर से एक विज्ञप्ति जारी कर अमित शाह और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा गया है। दशहरा पर्व पर लखनऊ में रामलीला में मोदी के शामिल होने को धर्म की आड़ में राजनीति करना बताया। उनका कहना है कि बीजेपी दलितों को लुभाकर प्रदेश में अपने खस्ता हालातों को सुधारना चाहती है।

विज्ञप्ति में साल 1956 में 14 अक्टूबर को डॉ. अंबेडकर द्वारा लाखों अनुयायियों के साथ बौद्ध धर्म स्वीकारने की घटना का हवाला देकर लिखा गया है, अंबेडकर द्वारा धर्म परिर्वतन कर लेने के मुख्य कारण आज भी मौजूद है। अन्य के शासनकाल के मुकाबले नरेंद्र मोदी के शासनकाल में लोगों के अंदर जातिवादी मानसिकता और दलितों पर अत्याचार में बढ़ोतरी दर्ज की गई है।

विज्ञप्ति में आगे लिखा है, दलितों का आरक्षण समाप्त करने का कुचक्र भी मोदी राज में किया जाता रहा है। कांग्रेस की तरह बीजेपी नेताओं ने भी दलितों के घरों में भोजन कर लेने से सामाजिक उत्पीडऩ खत्म होना मान लिया है।

गौरक्षा की आड़ में पहले मुस्लिमों और अब दलितों पर अत्याचार किए जा रहे हैं। मायावती ने प्रधानमंत्री पर झूठे चुनावी वादे करने का आरोप लगाते हुए कहा कि बीजेपी को स्वाभिमानी दलित नेतृत्व बहुत खटक रहा है।

गौरतलब है कि शुक्रवार को कानुपर में धम्म चेतना यात्रा के समापन समारोह में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने दलितों के प्रति अपना प्रेम जग-जाहिर किया। हालांकि दलितों को शाह का यह प्रेम रास नहीं आया और उन्होंने शाह का जमकर विरोध किया था।


उत्तर प्रदेश पर शीर्ष समाचार


x