भारत में चीनी उत्पादों की मांग में 20 फीसदी की आई गिरावट

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-10-15 10:49:55
भारत में चीनी उत्पादों की मांग में 20 फीसदी की आई गिरावट

नई दिल्ली। पिछले दिनों देश में पैदा हुए हालातों के बाद सोशल मीडिया पर लगातार चीन के उत्पादों का बहिष्कार करने की अपील दिनों-दिन बढ़ती जा रही है। सोशल मीडिया पर बहिष्कार की आवाज़ उठने के बाद भारत के खुदरा व्यापारियों का कहना है कि चीनी उत्पादों की मांग में 20 फीसदी की गिरावट आई है।

एक तरफ भारत के व्यापारी ये बात कह रहे हैं दूसरी तरफ, चीनी मीडिया दावा कर रही है कि अब भी उसके उत्पाद भारत में खूब बिक रहें हैं। चीनी मीडिया के अनुसार भारत के कुछ नेता भी बहिष्कार की अपील को तूल दे रहे हैं।

दिल्ली में कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स का कहना है कि त्योहारों के समय चीनी सजावट और लाइटिंग का काफी इस्तेमाल किया जाता है। ये त्योहार से 3 से 4 महीने पहले ही बाजारों में आना शुरू हो जाते हैं।

चीनी उत्पाद इस बार भी थोक विक्रेताओं के पास मौजूद है, लेकिन खुदरा कारोबारियों की ओर से मांग में 20 फीसदी की गिरावट दर्ज की गई है। खुदरा व्यापारियों की ओर से मांग में कमी आने का मुख्य कारण आम जनता द्वारा प्रो़डक्ट को ना खरीदे जाने का डर है।

राजनायिक रहे राजीव डोगरा का इस मामले पर कहना है कि अगर इम्पोर्ट या डंपिंग से देश के उद्योगों को नुकसान हो रहा हो तो संरक्षण जरूरी हो जाता है। वहीं, दूसरी तरफ टीकाकार ब्रह्मा चेलानी का कहना है कि भारत के साथ चीन का कारोबार सरप्लस में है, तभी उसका मुखपत्र यह बात कर रहा है।

आपको बता दें कि साल 2015-16 में भारत और चीन के बीच एक्सपोर्ट और इम्पोर्ट में 52 अरब डॉलर से ज्यादा का अंतर था।


बिजनेस पर शीर्ष समाचार