उत्तराखंड में अमित शाह के दौरे से क्या सुधरेगी BJP में मची कलह ?

Edited by: Ankur_maurya Updated: 21 Sep 2017 | 12:19 AM
detail image

नई दिल्ली। दो दिन की माथापच्ची के बाद सरकार और संगठन दोनों को बीजेपी हाईकमान की ओर से ग्रीन सिग्नल मिलता दिखाई दे रहा है। दो दिन की गहन समीक्षा के बाद पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने त्रिवेन्द्र सरकार और संगठन दोनों की तारीफ की, लेकिन बार बार अंदर खाने से खबरें आती रही कि बीजेपी में सिर फुट्टवल चल रहा है। वहीं कांग्रेस शाह के दौरे पर सवाल खड़े कर रही है और कह रही है कि शाह के आने से केवल सरकारी खर्च बढ़ा है।

शाह ने दो दिन तक सरकार और संगठन की परत दर परत समीक्षा की। अलग अलग स्तर पर हुई समीक्षा के बाद अमित शाह ने सरकार और संगठन दोनों को पास घोषित किया। अमित शाह ने कहा कि प्रदेश में सरकार और संगठन दोनों मिलकर काम कर रहे हैं और सरकार की दिशा सही हैं और रफ्तार भी ठीक है। अमित शाह ने मंडल इकाई से लेकर राष्ट्रीय कार्यकारिणी के सदस्यों तक की समीक्षा बैठकें की, इन बैठकों में अमित शाह ने बूथ लेवल को मजबूत करने की बात कही और कार्यकर्ताओं को इसके टिप्स भी दिए।

मंडल अध्यक्षों को संगठन के विस्तार पर फोकस करने को कहा गया और विधानसभा पालकों को कलेंडर जारी कर हर दिन नई गतिविधियां संचालित करने को कहा गया है। अमित शाह ने संगठन के लोगों को बोलने का भी भरपूर मौका दिया जिसके बाद संगठन के कई पदाधिकारियों, विधायकों, मंत्रियों ने अपनी नाराजगी भी अमित शाह के सामने खुलकर रखी। सरकार के कार्यों की समीक्षा कर अमित शाह ने सरकार को घोषणा पत्र के हिसाब से चलने की हिदायत दी और सरकार और संगठन दोनों को परीक्षा में पास घोषित कर दिया।