कुलपति सत्येन्द्र मिश्रा को पद से हटाने का हाईकोर्ट ने दिया आदेश

Edited by: Editor Updated: 28 Oct 2016 | 06:16 PM
detail image

नैनीताल। नैनीताल हाईकोर्ट ने उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर सत्येन्द्र प्रसाद मिश्रा को पद से हटाने का आदेश दिया है। एक जनहित याचिका पर सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट की खंडपीठ ने कहा कि कुलपति सत्येंद्र मिश्रा की नियुक्ति अवैध है।

बता दें कि उत्तराखंड में ऐसा पहली बार हुआ है जब किसी कुलपति को हाईकोर्ट के आदेश के बाद अपने पद से हटाया गया हो। आयुर्वेद विवि के कुलपति सत्येन्द्र प्रसाद मिश्रा के मामले में ऐसा ही हुआ है।

मुख्य न्यायधीश केएम जोसेफ और न्यायधीश यूसी ध्यानी की खंडपीठ ने नीरज कुमार धूलिया की ओर से दाखिल जनहित याचिका पर सुनवाई के दौरान गुरुवार को ऐतिहासिक फैसला सुनाते हुए कुलपति की नियुक्ति के नियमविरुद्ध करार देते हुए तत्काल पद से हटा दिया।

गौरतलब है कि याचिकाकार्ता ने कोर्ट में कहा था कि कुलपति पद पर चयन के नियमों में 65 वर्ष की उम्र पार कर चुका कोई भी व्यक्ति आवेदन नहीं कर सकता है,जबकि प्रोफेसर सत्येन्द्र मिश्रा ने आवेदन के समय तथ्य छिपाए थे। जिस पर हाईकोर्ट ने अपना फैसला सुनाया।