6 लोगों को पता था बंद होने वाले हैं 500 और 1000 के नोट

Author: Hindi Khabar
Updated On : 2016-11-09 13:01:44
6 लोगों को पता था बंद होने वाले हैं 500 और 1000 के नोट

नई दिल्ली। मंगलवार को केंद्र सरकार द्वारा पूरे देश में 500 और 1000 के नोट को बंद करने का फैसला किया गया, लेकिन ये फैसला एक दिन में नहीं हुआ है। भारत में 500 और 1 हजार के नोट बंद करने की योजना 6 महीने से पहले ही तैयार की गई थी। जैसा की बाजारों में खबरें आई है कि नए नोट लाकर सरकार कालेधन को बाहर लाना चाहती है लेकिन सच तो ये है कि इस कदम से सरकार जाली नोटों से निजात पाना चाहती थी।

रिपोर्ट के मुताबिक, सरकार के इस फैसले की जानकारी 6 लोगों को थी। ये लोग थे-प्रिंसिपल सेक्रटरी नृपेंद्र मिश्रा, पूर्व और वर्तमान आरबीआई गवर्नर, वित्त सचिव अशोक लवासा, आर्थिक मामलों के सचिव शक्तिकांत दास और वित्त मंत्री अरुण जेटली। सूत्रों के मुताबिक, योजना को लागू करने की प्रक्रिया दो महीने पहले शुरू हुई।

रिपोर्ट में सूत्रों के हवाले से लिखा गया है कि 'हमारी काययाबी की वजह यही है कि हम इस योजना को पर्दे के पीछे रख सके। हालांकि, अचानक से की गई घोषणा की वजह से हमारे सामने इस योजना को लागू करन से जुड़ी कुछ चुनौतियां आने की आशंका है।'

एक अधिकारी का कहना है कि जाली नोट ज्यादा बड़ी समस्या नहीं हैं। ऐसे नोट 400 से 500 करोड़ रुपए के हो सकते हैं। अधिकारी के मुताबिक, बाजार में चल रहे नोटों के मुकाबले, ये रकम बेहद छोटी है। योजना का मकसद ब्लैक मनी पर कार्रवाई है, लेकिन इसके तहत कितनी रकम छिपी हुई है, इस बात का अंदाजा लगाना मुश्किल है।

रिपोर्ट के मुताबिक एक अन्य अधिकारी का कहना था कि इस नई कवायद की वजह से क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड और चेक से भुगतान करने में तेजी देखने को मिलेगी।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार