Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

राजपूतों और भंसाली के बीच मध्यस्थता को तैयार हैं मेवाड़ के महाराजा, रखी ये शर्त

Edited By: Pooja
Updated On : 2017-11-18 15:16:40
राजपूतों और भंसाली के बीच मध्यस्थता को तैयार हैं मेवाड़ के महाराजा, रखी ये शर्त via
राजपूतों और भंसाली के बीच मध्यस्थता को तैयार हैं मेवाड़ के महाराजा, रखी ये शर्त

मुंबई। संजय लीला भंसाली की फिल्म 'पद्मावती' का राजपूत समाज की ओर से जमकर विरोध किया जा रहा है। इसी विरोध के चलते करणी सेना ने 1 दिसंबर को भारत बंद करने का ऐलान किया है। इसी बीच फिल्म पर मेवाड़ के पूर्व महाराजा अरविन्द सिंह मेवाड़ का बड़ा बयान सामने आया है।

दरअसल, मेवाड़ के पूर्व महाराजा अरविन्द सिंह मेवाड़ ने कहा कि वो संजय लीला भंसाली और राजपूतों के बीच मध्यस्थता को तैयार हैं। उन्होंने दावा किया कि वो राजपूतों के गुस्से को शांत कर सकते हैं। इसके लिए उन्होंने एक शर्त रखी है।

ये भी पढ़ें-अब सेंसर बोर्ड भी हुआ भंसाली से नाराज, 'पद्मावती' को दिया ये झटका

महाराजा अरविंद ने कहा, "मैं मध्यस्थता के लिए तैयार हूं। लोग मेरी बात मानेंगे, लेकिन भंसाली एक पैनल को फिल्म दिखाए। मैं इसमें उनकी मदद कर सकता हूं। हमें इस पागलपन को ख़त्म करने की जरूरत है।''

बता दें कि महाराजा का ये बयान ऐसे समय में सामने आया है, जब पूरे देश भर में फिल्म का पुरजोर विरोध किया जा रहा है। दरअसल, राजपूत समाज का कहना है कि फिल्म में इतिहास के साथ छेड़छाड़ की गई है। फिल्म में पद्मावती और खिलजी के बीच ड्रीम सीक्वेंस फिल्माया गया है, जो सत्य नहीं है। इस फिल्म की रिलीज डेट 1 दिसंबर रखी गई थी।


मनोरंजन पर शीर्ष समाचार


x