Disable ADBlock and Click Here to Reload The Page

मोदी को नहीं दिखती मुसलमानों की तकलीफ: राना

Edited By: Editor
Updated On : 2016-11-04 03:19:59
मोदी को नहीं दिखती मुसलमानों की तकलीफ: राना
मोदी को नहीं दिखती मुसलमानों की तकलीफ: राना

नई दिल्ली। मशहूर शायर मुनव्वर राना ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बारे में बोलते हुए कहा कि मोदी को दलितों का दर्द तो नजर आ रहा है लेकिन मुसलमानों की परेशानियां उन्हें नहीं दिख रही है।

देश में मुसलमानों की दशा पर चिंता जाहिर करते हुए राना ने कहा कि मुसलमान काफी परेशान है। नोएडा के अखलाक का उदाहरण दिया और कहा कि उसके यहां तलाशी ली गई, उसे बेदर्दी से मारा गया। एक वर्ग खुद के कानून को समाज पर थोपना चाहता है, जो सही नहीं हैं।

पत्रकारों से मुखातिब होते हुए राना ने कहा कि वर्तमान समय में उर्दू जुबान एक जुबान ना रहकर आतंकवाद की पहचान बन गई है। देश की पुलिस किसी भी मुसलमान को पकड़ती है तो उसकी जेब से एक उर्दू जबान में लिखा खत दिखा कर उसे आतंकवादी घोषित कर देती है।

हिंदुस्तान में उर्दू पर दो बार बिजली गिरी। एक जब मुल्क का बंटवारा हुआ, दूसरे जब अयोध्या में बाबरी मस्जिद गिरी। उन्होंने कहा कि अंग्रेजों ने अपना असलहा बेचने के लिए हिंदूस्तान के तीन टुकड़े भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश करा दिए।

लेखकों, गायकों समेत अन्य लोगों द्वारा पुरस्कार लौटाए जाने पर राना ने कहा, 'मैं अपनी बात पर कायम हूं। लोगों ने सिर्फ अवार्ड लौटाए थे, मैंने तो अवार्ड वापसी के साथ ही किसी भी सरकारी पुरस्कार को न लेने का ऐलान भी किया है, लेकिन शायद सियासत गजल की भाषा नहीं समझती।'

गौरतलब है कि राना ने पिछले साल असहिष्णुता के मुद्दे पर अवार्ड भी लौटा दिया था। भोपाल एनकाउंटर के बारे में बोलते हुए राना ने कहा कि पुलिस एनकाउंटर फर्जी होते है। देश के तमाम थानों में पुलिस मासूमों को फंसाने के लिए हथियार रखती है और इल्जाम लगाकर जेल की चार दिवारी में कैद कर देती है।


राष्ट्रीय पर शीर्ष समाचार